पराली जलाने से फैल रहे सफेद प्रदूषण पर काली सियासत

0
390

चंडीगढ़। खेतों में किसानों द्वारा पराली जलाने का मुद्दा अब एक बड़ा राजनीतिक मुद्दा बनता जा रहा है। अरविंद केजरीवाल और उनकी दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार इशारों-इशारों में पंजाब सरकार और केंद्र सरकार पर यह कहकर हमला बोल चुके हैं कि पंजाब में किसानों को पराली जलाने से रोकने में अकाली-बीजेपी सरकार विफल रही है और इसका खामियाजा दिल्ली को भुगतना पड़ रहा है।
दिल्ली में सोमवार को केंद्रीय पर्यावरण मंत्री अनिल माधव दवे के साथ पंजाब, हरियाणा और दिल्ली के पर्यावरण मंत्रियों की हुई मीटिंग में भी पराली जलाने के मुद्दे पर राजनीति हावी रही। दिल्ली के पर्यावरण मंत्री इमरान हुसैन ने कहा कि किसानो को पराली जलाने से रोकने के लिए केंद्र और दिल्ली और पंजाब की राज्य सरकारों को अभी और कदम उठाने की जरूरत है। इसके लिए किसानों को खेत से पराली को हटाने के लिए सब्सिडी देनी चाहिए ताकि किसान पराली को न जलाएं और इसका खामियाजा दिल्ली को न उठाना पड़े।
बैठक में शामिल हुए पंजाब के कैबिनेट मिनिस्टर तोता सिंह और पंजाब में बैठे पंजाब सरकार के कैबिनेट मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया ने अरविंद केजरीवाल और दिल्ली की आम आदमी पार्टी को अपनी गलती दूसरों के सिर न डालने की नसीहत दी और कहा कि दिल्ली सरकार अपनी नाकामी को छिपाने के लिए अपनी सरकार के फेलियर को पंजाब के ऊपर डालने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर अरविंद केजरीवाल इस तरह की राजनीति कर रहे हैं।
इस दौरान केंद्रीय पर्यावरण मंत्री अनिल माधव दवे ने साफ कर दिया कि सिर्फ पराली जलाना ही दिल्ली में प्रदूषण की अकेली वजह नहीं है। पराली जलाने से सिर्फ 20% ही स्थिति खराब हुई है जबकि आज दिल्ली और दिल्ली के लोग जो स्थिति झेल रहे हैं उसकी बड़ी कारण और भी कई हैं।
भले ही भारत सरकार ने साफ कर दिया हो की पराली जलाने की वजह से दिल्ली के वातावरण को उतना नुकसान नहीं पहुंचा है जितना कि बढ़ा-चढ़ाकर दिखाया जा रहा है। फिर भी पंजाब में चुनावी साल होने की वजह से अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी किसानों को पराली जलाने से न रोक पाने के लिए पंजाब सरकार को जिम्मेवार ठहरा रहे हैं और वहीं पंजाब सरकार भी इस मुद्दे पर राजनीति करने का आरोप आम आदमी पार्टी पर लगा रही है। पर इस सब के बीच दिल्ली के लोगों के बारे में शायद ही कोई सोच रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here