10 तरह की लकडिय़ों से तैयार किया अर्जुन का रथ

0
192

Faridabad News : तेरा कर्म ही तेरी विजय है। सूरजकुंड अंतरराष्ट्रीय हस्तशिल्प मेला पर्यटकों को धर्म.संस्कृति से जोड़ रहा है और कर्म का संदेश भी दे रहा है। मेले में भगवान कृष्ण की वेशभूषा में एक तरफ कलाकार शमशाद पर्यटकों के आकर्षण केंद्र बने हुए हैं। वहीं आपको मेले में अर्जुन का रथ भी देखने को मिल जाएगा। इस रथ को कर्नाटक के एन रवि कुमार ने 10 तरह की लकडिय़ों से तैयार किया है। यह कलाकृति दो लाख रुपये की लागत से तैयार हुई है। रथ को महाभारत के युद्ध में अर्जुन के सारथी बने भगवान श्रीकृष्ण चला रहे हैं।

एन रवि सूरजकुंड मेले में स्टॉल नंबर 441 पर लकड़ी से बनी कारीगरी को प्रदर्शित कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि उनके दादाए परदादा यह काम करते थे। इसमें काफी बारीक कारीगरी होती है। लकडिय़ों की सहायता से चित्र बनाए जाते हैं। कर्नाटक में मुख्य रूप से शीशम, पतंगा, सफेद देवदार, शिवानी वुड, मौली, सापाड, रामा, शेखर, जंगली मड्डी, चंदन की लकड़ी पाई जाती है। इन लकडिय़ों की सहायता से वुड इनले क्राफ्ट तैयार किया जाता है। इन लकडिय़ों की सहायता से भगवान, किसान, प्राकृतिक नजारे के भी बनाए हैं। लोगों को यह बहुत पसंद आ रहे हैं। इन लकडिय़ों की सहायता से परफ्यूम और अगरबत्ती भी तैयार की गई है। शिल्पकार के अनुसार लकडिय़ों की छाल निकाली जाती है। फिर इससे चित्र तैयार करने का काम शुरू होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here