किसान आंदोलन : झज्जर में हंगामा,  दुष्यंत चौटाला को काले झंडे दिखाने पहुंचे किसान, वाटर केनन का प्रयोग 

Spread the love
झज्जर, 1 अक्टूबर ( धमीजा ) : झज्जर शहर में शुक्रवार को उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के पहुंचने से पहले ही पुलिस व किसान आमने-सामने हो गए। कृषि कानूनों के विरोध में हाथों में काले झंडे लेकर नारेबाजी करते हुए किसानों को उपमुख्यमंत्री के कार्यक्रम स्थल से कुछ दूर पहले ही पुलिस ने रोक लिया। इस दौरान किसानों के साथ हल्की धक्का-मुक्की हुई। किसान नहीं रुके तो पुलिस ने उन पर वाटर कैनन का प्रयोग किया । स्थिति तनावपूर्ण होने के बाद डीसी श्याम लाल पूनिया व एसपी राजेश दुग्गल किसानों को समझाने के लिए पहुंचे। डीसी ने किसानों को लोकतांत्रिक तरीके से कार्यक्रम से दूर रहकर विरोध-प्रदर्शन करने का निवेदन किया। दुष्यंत चौटाला के कार्यक्रम के चलते झज्जर में भारी पुलिसबल तैनात की गई थी।
 उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला को झज्जर के नेहरू कॉलेज के ऑडिटोरियम में बायोमीट्रिक यंत्र उपलब्ध कराने के कार्यक्रम में पहुंचना था। उपमुख्यमंत्री के दौरे को देखते हुए झज्जर पुलिस ने कार्यक्रम स्थल के अलावा आसपास क्षेत्र में भारी पुलिसबल तैनात की थी। जगह जगह बैरिकेडिंग भी की गई थी। इसी बीच सैंकड़ों किसान कृषि कानूनों का विरोध जताने के लिए उपमुख्यमंत्री का घेराव करने पहुंच गए। किसानों को रोकने के लिए पुलिस ने रास्ते में बैरिकेड लगा दिए। काफी देर पुलिस व सुरक्षाबलों के बीच बहस हुई। इस दौरान किसानों ने बेरिकेड हटा दिए और आगे की तरफ बढ़ गए। किसानों को रोकने के लिए पुलिस ने वाटर कैनन का प्रयोग किया।
उप मुख्यमंत्री का विरोध करने वाले किसानों के बीच डीसी श्याम लाल पूनिया व एसपी राजेश दुग्गल पहुंचे। डीसी श्याम लाल पूनिया ने किसानों से निवेदन करते हुए कहा कि यह सामाजिक संस्था का कार्यक्रम है। आप लोकतांत्रिक ढंग से अपना विरोध प्रदर्शन कार्यक्रम स्थल से दूर रहकर करें। बैरिकेडिंग तोड़कर आप आगे बढ़े, लेकिन सम्मान की लाइन को न तोड़े। डीसी बोले कि हम भी आप ही के बच्चे हैं और सरकार की ड्यूटी कर रहे हैं। ड्यूटी में बाधा ना पहुंचाएं और उपमुख्यमंत्री एक अच्छे काम के लिए आए हैं, वह उन्हें करने दें।
उप मुख्यमंत्री के आने से पहले उनको काले झंडे दिखाने के लिए किसानों का एक प्रतिनिधिमंडल  कॉलेज के गेट के सामने पहुंच गया । एसपी राजेश दुग्गल व डीसी श्यामलाल पुनिया के आदेश के बाद बाकी किसान कॉलेज से पहले ही रोक दिए गए और किसानों का प्रतिनिधिमंडल के लोग कॉलेज के सामने बैठ गए। वहीं कबलाना की तरफ से कुछ किसान पुलिस लाइन पर स्थित हेलीपैड के पास भी पहुंचे गए । जिन्हें एसपी के आदेश के बाद वहां से हटा दिया। हरियाणा पुलिस के कर्मचारियों के अलावा आरएएफ व सीआरपीएफ के कर्मचारियों को भी तैनात किया गया था ।

झज्जर में आंदोलनकारियों पर पुलिस कार्रवाई से नाराज किसानों ने बाद में रोहतक-पानीपत मार्ग पर जाम लगा दिया। पुलिस ने मौके पर पहुंच जाम खुलवाने का प्रयास किया । पुलिस ने वैकल्पिक रास्तों से वाहन डायवर्ट कर निकाले। पुलिस के समझाने पर डेढ़ घंटे बाद किसानों ने जाम खोला और यातायात सुचारू हुआ।