हरियाणा विधानसभा सत्र : गहमागहमी के बीच पारित हुए 10 बिल , कांग्रेस का वॉकआउट , कादियान और चौटाला में तनातनी

Spread the love

चंडीगढ़ , 22 मार्च ( धमीजा ) : हरियाणा विधानसभा बजट सत्र कार्यवाही के दौरान आज भारी गहमागहमी के बीच 10 विधेयक पारित किए गए। विशेष तौर पर कृषि कल्याण बिल पर कांग्रेस सदन से वाक आउट कर गया। वहीं धर्म परिवर्तन बिल का भी कांग्रेस ने विरोध किया। हालांकि सत्तापक्ष ने बहुमत के आधार पर ये बिल पास कर दिये । इसके बाद सदन अनिश्चितकालीन के लिए स्थगति कर दिया गया। बजट सत्र की सदन की कार्यवाही दो मार्च को शुरू हुई थी। सदन में आज जो बिल पेश किये गए इनमें हरियाणा अग्निशमन तथा आपातकालीन सेवा विधेयक 2022; हरियाणा किसान कल्याण प्राधिकरण विधेयक, 2022; हरियाणा यांत्रिक यान(पथकर-उद्ग्रहण)संशोधन विधेयक2022; हरियाणा जल संसाधन(संरक्षण, विनियमन तथा प्रबंधन) प्राधिकरण(संशोधन) विधेयक 2022; हरियाणा लोक उपयोगिता परिवर्तन प्रतिषेध विधेयक 2022; हरियाणा विनियोग (संख्या 2) विधेयक 2022; हरियाणा सदाचारी बंदी (अस्थाई रिहाई) विधेयक 2022; हरियाणा राजकोषीय उत्तरदायित्व एवं बजट प्रबंधन (संशोधन) विधेयक 2022; हरियाणा विधि विरूद्ध धर्म परिवर्तन निवारण विधेयक, 2022 और मानव अंग प्रतिरोपण (हरियाणा विधिमान्यकरण) विधेयक, 2022 शामिल हैं।

 आज सदन में जब हरियाणा धर्म परिवर्तन विधेयक 2020 बिल पेश किया गया , इस पर भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा ने कहा कि हरियाणा में सभी धर्मों के लोग रहते हैं। यह बिल लोगों में सामाजिक भेदभाव पैदा करेगा। 1966 से लेकर अब तक प्रदेश में ऐसा कोई मामला नहीं आया। इससे समाज टूटेगा। रघुबीर कादियान ने कहा कि सरकार इस बिल को सिलेक्ट कमेटी के पास भेजे। किरण चौधरी ने इस पर आपत्ति जताई। उन्होंने कहा कि बिल में पावर मिसयूज होगी। ये पॉलिटिकल एजेंडा है। मॉनिरटी को दबाया जाएगा। सीएम मनोहर लाल ने कहा कि यह इंटर कास्ट से जुड़ा हुआ नहीं है। 2018 में 21 मुकदमें , 2019 में 25 मुकदमें, 2020 में 44 और 2021 में 34 मुकदमें दर्ज किए गए। यमुनानगर, गुरुग्राम, पानीपत, फरीदाबाद, पलवल में केस सामने आए है। क्राइम की गंभीरता को लेकर ही बिल लाया जाता है।

किसान कल्याण संशोधन विधेयक पर कांग्रेस ने किया वाक आउट

किसानों के मुद्दे पर जब सत्तापक्ष ने किसान कल्याण विकास प्राधिकरण संशोधन विधेयक पर शमशेर गोगी ने कहा कि इस विधेयक में कृषि से जुड़े किसानों को शामिल किया जाए। नहीं तो सारा देश भूखा मर जाउगा। निर्दलीय विधायक बलराज कुंडू ने कहा कि 24 सदस्य सरकारी विभागों के बड़े अधिकारी है। चीफ सेक्रेटरी इसके अध्यक्ष है। किसानों की भागीदारी बढ़ाए। कृषि से रिटायर्ड अधिकारी या प्रोफेसरों को शामिल किया जाए। सरकारी अधिकारी सरकार की सच्चाई बयान नहीं करेंगे। इसमें किसानों को लिया जाए। कांग्रेसी विधायकों ने कहा इसे अगले सेशन में पास करवाओ। इसमें विधेयक में किसानों को शामिल नहीं किया, जबकि सरकार इसे किसान हितैषी विधायक लेकर आई है। तब मंत्री ने कहा कि 6 मैंबर इसमें ज्यादातर किसान होंगे। गीता भुक्कल ने कहा कि जो 700 किसानों की मौत की खिल्ली उड़ा सकती है। तब कृषि मंत्री जेपी दलाल ने कहा कि कांग्रेस किसानों के नाम पर राजनीति कर रही है। भारी विरोध के बीच विपक्ष सदन से वाक आउट कर गया। सरकार ने विपक्ष की अनुपस्थिति में बिल पास किया।

 रघुबीर कादियान और दुष्यंत चौटाला में चले शाब्दिक तीर  

सदन में विधानसभा स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता ने हरियाणा विनियोग विधेयक संख्या दो प्रस्तुत किया। इस पर बेरी के कांग्रेसी विधायक रघुबीर कादियान जब बोलने लगे तो डिप्टी सीएम ने कहा कि अभी बिल इंटरड्यूस किया है इस पर चर्चा नहीं होनी। इस पर कादियान ने खड़े होकर कहा कि जब आपका जन्म नहीं हुआ था, जब मैं यहां बैठता था। बिल इंटरड्यूस हुआ है, मेरा राइट है बोलने का। ये कोई मायने नहीं है। हर बात पर आप रिएक्ट करते हैं। तब डिप्टी सीएम ने खड़े होकर कहा कि माननीय सदस्य मैंने ये कहा कि अभी प्रस्ताव इंटरडयूस हुआ है, डिसक्शन नहीं हुआ। इससे क्या मतलब है कि मेरा जन्म भी नहीं हुआ था। वैसे तो ईश्वर सिंह आपसे भी पहले सदन में थे। वे 1977 में जीत कर आए थे। आप अपने फैक्ट चेक कीजिए। आप आठ बार जीतकर आ गए तो ज्ञानी बन गए। आपने उस दिन इसी सदन में माफी मांगी थी कि आपने गलत किया। तब विधायक ने कहा कि ये दोबारा उस दिन की बात कर रहे हैं। डिप्टी सीएम ने कहा कि सदस्य का ये बात कहने का अर्थ क्या है कि मेरा जन्म नहीं हुआ था। कादियान साहिब का यह आपका सौभाग्य है कि 33 साल का छोरा आपको सिखा रहा है। जो आप 78 साल में नहीं सीख पाए। स्पीकर ने कहा कि आपको बड़प्पन दिखाना चाहिए। कादियान ने कहा कि रणजीत सिंह 1987 में हमारे साथ थे। उन्होंने बात कही थी कि जब सदन के नेता बोल रहे हो तो दूसरों को नहीं बोलना चाहिए। इनका तो पता है, जहां चौधरी बने बैठे हैं जब ये फील्ड में जाएंगे, तब पता चलेगा। दुष्यंत ने कहा कि माननीय सदस्य है ये विधानसभा क्षेत्र से जीतकर आए और मैं अपने विधानसभा क्षेत्र से। इसका न मेरे पैदा होने से फर्क नहीं पड़ता है, ना मेरी उम्र के होने से फ्रक पड़ता है। हम दोनों ही इलेक्टड मैंबर है। आपको सीनियर मेंबर मानता हूँ और आपको तवज्जों देता हूं। परंतु अब लगता है कि आपकी उम्र का असर पड़ गया हैं आप पर। कादियान ने कहा कि मैनें बजट में कोई सुझाव नहीं दिया। कमेटी की बायकाट कर दिया। बजट सरकार का विजन है। विजन में दूसरा सलाह लेता हैं तो प्रपंच मानता हूं।

कादियान ने सदन को कहा बूचड़खाना, बाद में वापस लिए शब्द 

कादियान ने कहा कि स्पीकर साहिब आप सदन के गार्जियन हो। इसका मतलब है कि कोई मैंबर अपने हलके की बात कहें उसे बजट में शामिल करें। वो मांग आप पूरा नहीं कर रहे और आन रिकार्ड बात कहता हू। सेशनमें दस डिमांड दी है, कोई डिमांड नहीं मानी। फिर हाउस का मतलब क्या है। ये लोकतंत्र के मंदिर नहीं है तो ये फिर बूचड़खाना है। इस पर स्पीकर ने ऐतराज जताया और शब्द वापस लेने के लिए कहा। इस पर कादियान ने कहा कि शब्द आप निकाल दो। इस पर बहस हो गई। कादियान ने कहा कि आप एफीडिवेट लेंगे क्या अब। इस पर मंत्री कमल गुप्ता ने कहा कि ये सदन बूचडखाना नहीं है। स्पीकर ने कहा कि आप गलत बोलते जा रहे हैं। बूचड़ खाना शब्द वापस लेना चाहिए। इसके बाद कादियान ने शब्द वापस लिए गए। कादियान ने कहा कि उसने कई डिमांड दी। परंतु पूरी नहीं। इसके बाद सीएम मनोहर लाल ने कहा कि यह सरकार का काम है कि जो मानने वाली है उसे मानेंगे। दबाव डालकर कुछ नहीं मनवा सकते। कादियान ने कहा कि सरकार भेदभाव कर रही हैं। इसके बाद प्रस्ताव पास हुआ।

विधायक को अब से 20 हजार रु ड्राइवर अलाउंस भी मिलेगा

हरियाणा विधानसभा सदस्य वेतन भत्ता व पेंशन भत्ता विधेयक का बिल पास किया गया।सीएम मनोहर लाल ने घोषणा की कि विधायकों को अब 18 रुपये प्रति किलो मीटर की दर से मिलने वाले ट्रेवलिंग अलाउंस के अतिरिक्त 20,000 रुपये का ड्राइवर अलाउंस भी मिलेगा। उन्होंने कहा कि मौजूदा प्रावधान के अनुसार एक विधायक द्वारा ऐसे स्थानों, जो रेल से नहीं जुड़े हैं, के बीच सडक़ मार्ग द्वारा की गई यात्रा के लिए 18 रुपये प्रति किलोमीटर की दर से ट्रेवलिंग अलाउंस मिलता है। अब हमने इसमें एक और प्रावधान किया है कि अब, विधायकों द्वारा सड़क मार्ग से ऐसे स्थानों, जो रेल से नहीं जुड़े द्वारा के बीच यात्रा के लिए 18 रुपये प्रति किलोमीटर की दर से ट्रेवलिंग अलाउंस के अलावा, 20,000 रुपये का ड्राइवर अलाउंस भी मिलेगा।

सदन में गूंजा फरीदाबाद नगर निगम का 100 करोड़ रुपये का घोटाला

विधायक नीरज शर्मा ने फरीदाबाद नगर निगम में घोटाले का मामला उठाया। विधायक ने कहा कि 26-4-2019 को विजिलेंस ने निगम को चिट्‌ठी लिखी कि 100 करोड़ का घोटाला है। कागज दें।सांसद किशन पाल गुर्जर की अध्यक्षता में मीटिंग हुई कि पहले सड़क तारकोल की बननी है, इसे सीमेंट से बनवा दें। निगम कमिशनर ने एप्रूव कर दिया। चिट्‌ठी चिट्‌ठी खेल चल रहा है। विजिलेंस को कागज नहीं दिए गए। नगर निगम में पांच लाख 52 हजार का एस्टीमेट बना। इन्हासमेंट एक करोड़ 92 रुपये की हो गई। सतबीर एंड कंपनी 200 करोड़ रुपये खा गया। दो करोड़ का काम 36 करोड़ रुपये का हो गया। नीरज शर्मा ने कहा कि भ्रष्ट अफसरों के नाम वीरेंद्र, डीआर भास्कर, रवि सिंगला, सोनम गोयल, मोहम्मइ शाइन के नाम है। 100 करोड़ का ठेका एप्रूव कर दिया। रिटायर्ड अफसर रवि सिगंला को वार्ड बंदी का कंसलटेंट लगा दिया। मेरी बात गलत हो तो आज ही सदन में इस्तीफा दे दूंगा। कांग्रेसी विधायकों ने शर्म करो, शर्म करो के नारे लगा दिए। इस पर मंत्री कमल गुप्ता ने कहा कि विधायक से समझ रहे हैं कि सामने रैली है, नारे लगा दिए। नौ केस है, हर केस का जवाब लिखा हुआ है। कमल गुप्ता ने हर केस में कारवाई का जवाब दिया। नीरज शर्मा ने कहा कि जब तक भ्रष्ट्राचारियों के खिलाफ कारवाई नहीं होती तब तक ना जूते धारण कंरूगा, न सिले वस्त्र धारण करूंगा। टाइम बता दों कि भ्रष्ट्रचारियों को सजा कब मिलेगी। विधायक कमल गुप्ता ने कहा कि पीएम का मर्डर हो जाता है तो जांच में दस- दस साल लग जाते हैं। इस पर विधायकों ने शेम शेम के नारे लगाए। तब डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने कहा कि डिपार्टमेंट के पास जो मामले विचाराधीन है,उसे 6 महीने में कंपलीट कर देंगे।