पलवल में नक़ल करवा रहे युवकों व् महिलाओं ने पुलिसकर्मियों को डंडों से धूना , हमलावर फरार

Spread the love

पलवल , 5 अप्रैल ( धमीजा ) :  पलवल में बोर्ड के एग्जाम में छात्रों को पर्चियां दे रहे युवकों ने पुलिस के रोकने पर उनको धून डाला। पुलिस को ठोकने में  महिलाओं ने भी युवकों का पूरा साथ दिया। महिलाओं ने पुलिसकर्मियों को पकड़ा और युवकों ने डंडों से उन्हें पीटा। यही नहीं आरोपियों ने उनकी वर्दी भी फाड़ दी। इस मामले में चांदहट पुलिस ने 2 महिलाओं सहित चार के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। उनकी गिरफ्तारी के लिए दबिश भी दी, लेकिन किसी की गिरफ्तारी नहीं हो पाई ।

चांदहट थाना प्रभारी रमेश कुमार के अनुसार दसवीं व बारहवीं की परीक्षाएं चल रही हैं। परीक्षा में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिसकर्मियों की ड्यूटी जलालपुर गांव के गर्ल्स हाई स्कूल में लगाई हुई थी। सोमवार को एसआई इंद्राज, एसपीओ कुलवीर, साहब सिंह, प्रकाश वीर, सुभाष, अजय व जयवीर सरकारी गाड़ी के चालक एसपीओ विरेंद्र के साथ स्कूल में पेपर ड्यूटी पर पहुंचे।

उसी दौरान स्कूल की चारदीवारी के पास ज्यादा शोर शराबे को देखते हुए एसआई इंद्राज व कुलवीर गाड़ी चालक विरेंद्र के साथ वहां पहुंचे। पुलिस के अनुसार वहां कुछ युवक छात्रों को पर्चियां दे रहे थे। इस पर कुलवीर गाड़ी से उतर गया और वहां खड़े युवाओं से कहा कि यहां से भाग जाओ। इसी दौरान एक लड़का कहने लगा यह हमारा घर है, तो कुलवीर ने कहा कि यहां धारा 144 लगी हुई है आप घर के अंदर चले जाओ। इसी बात पर उक्त युवक तैश में आ गया और कुलवीर का  कॉलर पकड़ लिया ।

इतने में माहौल गरमा गया। आरोप है कि इसके बाद वहां मौजूद 2 औरतों ने कुलवीर को पकड़ लिया और एक लड़का घर के अंदर से डंडा लेकर आया और पुलिसकर्मी पर डंडे बरसाने आरम्भ कर दिए । उसे बचाने के लिए जब एसआई इंद्राज दौड़कर पहुंचा तो आरोपियों ने उसके साथ भी मारपीट कर वर्दी फाड़ डाली । ये सब देख वहां काफी संख्या में लोग एकत्रित हो गए और लोगों ने उन्हें बचाया। इसके बाद आरोपियों ने धमकी दी कि आज के बाद यहां आए तो जान से खत्म कर देंगे। आरोप है कि इस बीच मकान की छत्त पर खड़े एक युवक ने कट्टा नुमा  हथियार उनकी तरफ तानते हुए धमकी दी।

थाना प्रभारी ने बताया कि एसपीओ चांदहट गांव निवासी अर्जुन, अरुण, शिला व एक अन्य औरत के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। उन्होंने बताया कि वे स्वयं आरोपियों को पकड़ने के लिए उनके घर पर दबिश देने पहुंचे, लेकिन आरोपी पुलिस के पहुंचने से पहले ही घर से फरार हो गए।