बिजली निगम की लापरवाही : फरादाबाद में 24 घंटे में बिजली से झुलसने से दो की मौत

Spread the love

फरीदाबाद , 24 मई ( धमीजा ) : हरियाणा के फरीदाबाद में बिजली निगम की लापरवाही के कारण दूध लेने जा रहा एक शख्स जिंदा जल गया। तेज अंधड़ और बारिश के कारण सड़क पर टूटकर गिरे हाइटेंशन तार की सप्लाई बंद कराने के लिए 1 घंटे तक लोग निगम के कर्मचारी और अधिकारियों को फोन करते रहे। सप्लाई बंद नहीं हुई और एक शख्स की जान चली गई। इस घटना से गुस्साए लोगों ने दयालपुर चौकी का घेराव किया। पुलिस ने बिजली निगम के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है।

पुलिस के अनुसार मृतक की पहचान सूरजकुंड थाना क्षेत्र के शिव दुर्गा विहार कॉलोनी देव करण पाल (57) के रूप में हुई है। पेशे से दुकान चलाने वाला देव करण पाल घटना के समय घर से दूध लेने के लिए निकला था। एक दिन पहले ही सेक्टर-10 में ब्यूटी पार्लर में काम करने जा रही 20 साल की युवती भी इसी तरह करंट की चपेट में आकर जान गवां चुकी है।

शिव दुर्गा विहार कॉलोनी निवासी अर्जुन सिंह, ओपी शर्मा, राम, विनय राय, राज किशोर पांडे, दिलीप तिवारी, मणिशंकर ने बताया कि यहां से 11 हजार केवी की हाइवोल्टेज लाइन जा रही है। अलसुबह करीब 3 बजे लाइन के तार में स्पार्क हो रहा था। मणिशंकर ने बिजली कर्मी को फोन कर जानकारी दी थी। आरोप है कि सूचना देने के बाद भी न तो बिजली की सप्लाई बंद की गई और ना ही कोई कर्मचारी मौके पर आया। 1 घंटे बाद तार स्पार्किंग के बाद सड़क पर गिर गई ।

स्थानीय लोगों ने बताया कि दुकानदार देव उर्फ देव करण पाल की कॉलोनी में ही परचून की दुकान है। मंगलवार सुबह वह साइकिल से दूध लेने लक्कड़पुर जा रहा था। बिजली का तार नीचे गिरा था और सप्लाई बंद नहीं थी। ऐसे में दुकानदार तार की चपेट में आ गया और मौके पर ही वह बुरी तरह झुलस गया। इसके बाद स्थानीय लोगों ने जमकर हंगामा किया और पुलिस चौकी का घेराव किया।

पुलिस के बुलाने पर भी नहीं पहुंचे बिजलीकर्मी

बिजली कर्मियों की लापरवाही का आलम यह रहा कि पुलिस के बुलाने पर भी नहीं आए। घटना के बाद पुलिस टीम ने विभाग के जेई और एसडीओ को फोन कर मौके पर बुलाया। फोन करने के 1 घंटे तक भी कोई अधिकारी या कर्मचारी नहीं पहुंचा। नाराज लोगों ने पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में बिजली कर्मियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और मृतक के शव को उठाने से इनकार कर दिया। पुलिस कर्मियों के समझाने और उचित कानूनी कार्रवाई के आश्वासन के के बाद ही लोग माने।

बिजली निगम पर गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज

मृतक के बेटे दीपक कुमार पाल ने सूरजकुंड थाना पुलिस को दी शिकायत में कहा है कि उनके पिता की मौत का जिम्मेदार बिजली निगम है। घर से महज 200 मीटर की दूरी पर ट्रांसफार्मर लगा है। बिजली का तार टूट कर गली में पड़ा था। मणिशंकर ने फोन कर निगम को सूचना भी दी, लेकिन सप्लाई बंद नहीं की गई। दीपक की शिकायत पर पुलिस ने बिजली निगम के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज कर लिया है। पुलिस के अनुसार घटना की जांच की जा रही है, जिसकी भी लापरवाही मिलेगी उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।