किसान आंदोलन :करनाल में मुख्यमंत्री के लिए बने हेलीपैड और रैली के मंच पर किसानों ने की तोड़फोड़, नहीं पहुंचे सीएम 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

करनाल, 10 जनवरी। रविवार को करनाल में मुख्यमंत्री मनोहर लाल का दौरा किसानों के विरोध के चलते रद्द हो गया। हालांकि, प्रशासन ने कार्यक्रम रद्द होने का कारण खराब मौसम बताया है। यहां मुख्यमंत्री मनोहर लाल किसान महापंचायत को संबोधित करने आ रहे थे। कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे किसान खट्‌टर की रैली का भी विरोध करने कार्यक्रम स्थल की ओर बढ़े तो पुलिस ने उनको रोकने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े, वाटर कैनन भी चलाई, लेकिन सभी इंतजामों को धता बताते हुए सैकड़ों किसान सीएम की रैली स्थल तक पहुंच गए। उन्होंने यहां खुलकर तोड़फोड़ की। कुर्सियां, माइक और मंच सब तहस-नहस कर दिया गया।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर को रविवार को करनाल जिले के कैमला गांव में किसान महापंचायत रैली में आना था। इससे पहले किसान संगठनों की तरफ से विरोध की चेतावनी के चलते प्रशासन की तरफ से सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। यहां गढ़ी सुल्तान के पास पुलिस ने नाका लगा रखा था। यहां आगे बढ़ रहे किसानों को वाटर कैनन और आंसू गैस के गोले के साथ रोका गया, लेकिन जब ये नहीं माने तो पुलिस ने लाठियां भी चलाईं।

नाराज किसानों ने खेतों के रास्ते आगे बढ़ना शुरू कर दिया। रोकने की कोशिश के बीच किसान आगे बढ़ गए। इन्होंने पहले हेलीपैड को कस्सियों से खोद दिया, फिर रैली स्थल पर पहुंचकर वहां मंच पर तोड़फोड़ की। आखिरकार नतीजा यह हुआ कि मुख्यमंत्री का दौरा रद्द करना पड़ा।

इस बारे में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व कृषि मंत्री ओम प्रकाश धनखड़ रैली स्थल से यह कहते हुए निकल गए कि कार्यक्रम संपन्न हो गया। साथ ही मुख्यमंत्री के नहीं आने का कारण खरब मौसम को बताया।

धरे रह गए प्रशासन के दावे

प्रशासन ने कहा था कि अगर कोई भी मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में बाधा डालेगा, उससे सख्ती से निपटा जाएगा। वहीं किसान नेताओं ने आश्वासन दिया कि अगर किसी भी तरह का विरोध करना होगा तो शांतिपूर्ण तरीके से निर्धारित स्थान पर अपना विरोध करेंगे।

बता दें कि कृषि कानून के विरोध में जहां दिल्ली सीमा पर हजारों किसान आंदोलन छेड़े हुए हैं। वहीं हरियाणा में भी कई जिलों में किसान पिछले कई दिनों से टोल प्लाजा पर धरना प्रदर्शन करके अपना विरोध जता रहे हैं। शनिवार को किसान नेताओं ने कहा था कि हजारों किसान सुबह 8 बजे बसताड़ा टोल प्लाजा पर पहुंचकर मुख्यमंत्री के कार्यक्रम का विरोध करेंगे। प्रशासन उन्हें रोकने की तैयारी में था। इसको लेकर शनिवार को भी जिले के किसान नेताओं और जिला प्रशासन की बैठक हुई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *