फरीदाबाद : सेक्टर -31 में oyo होटल में एक व्यक्ति की संदिग्ध परिस्तिथियों में मौत , हाथ की नसें काट दूसरी मंज़िल से कूदा 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
फरीदाबाद , 17 जनवरी।  एक बेकरी कारोबारी ने होटल की दूसरी मंजिल से कूदकर आत्महत्या कर ली। बताया जाता है कि उसने पहले अपने दोनों हाथों और गले की नसें काटी और फिर नीचे छलांग लगा दी। मौके से खून से सना एक सुसाइड नोट भी मिला है। पुलिस इसे पैसे के लेन-देन में परेशान होकर आत्महत्या का कदम मान रही है, वहीं परिजनों के मुताबिक यह हत्या है। सीसीटीवी  कैमरे में कैद हुई तस्वीर में भी कारोबारी नीचे कूदता दिखाई दे रहा है। बहरहाल पुलिस ने हर पहलू से जांच शुरू कर दी है।
मृतक की पहचान इंद्रप्रस्थ कॉलोनी सेक्टर 31 निवासी राम कृपाल सिंह के रूप में हुई है। वह बेकरी का कारोबार करता था। गांव बसंतपुर-सेहतपुर के पास दुकान है। परिवार में पत्नी और दो बेटे हैं, जिनमें से बड़ा बेटा नीलेश भी कारोबार में हाथ बंटाता था। पुलिस को दिए बयान में नीतेश ने बताया कि उसके पिता शनिवार दोपहर करीब साढ़े 12 बजे होटल OYO में दोस्तों से मिलने की कहकर घर से निकले थे। वह शाम तक नहीं लौटे तो बेटे ने फोन किया। उस वक्त राम कृपाल ने रविवार सुबह घर आने की बात कहकर फोन काट दिया, लेकिन सुबह उन्हें उनकी मौत की खबर ही मिली।

कहा जा रहा है कि राम कृपाल ने होटल की दूसरी मंजिल पर चढ़कर पहले अपने दोनों हाथों और गले की नसें काटी और फिर ऊपर से छलांग लगा दी। इस घटना की सीसीटीवी फुटेज भी सामने आई है, जिसमें बेकरी कारोबारी छत पर चढ़ा और नीचे गिरता दिखाई दे रहा है। सूचना के बाद क्राइम ब्रांच और फोरेंसिक की टीम ने मौके पर पहुंचकर जांच शुरू कर दी। होटल के कमरे से मिले सुसाइड नोट में कई लोगों से पैसों के लेन-देन की बात सामने आई है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

दूसरी ओर बेटे नीतेश ने हत्या की आशंका जताई है। उसका कहना है कि घर नहीं लौटने के चलते जब परिचितों से बात की तो तिलपत निवासी त्रिलोक पंडित ने प्लॉट के मामले में पप्पू नामक व्यक्ति की राम कृपाल से बात होने और उनके ग्रीनफील्ड में होने की जानकारी दी थी। जब पप्पू को फोन किया तो एक बार घंटी बजी, फिर उसने फोन बंद कर दिया, जबकि रात साढ़े 9 बजे रामकृपाल ने फोन रिसीव करके सुबह आने की बात कही थी। सुसाइट नोट में बृजेश यादव का नाम लिखा है। पप्पू से कहा गया है कि जीपीए  हमारे बेटे के नाम कर देना। परिवार वालों ने संदेह व्यक्त किया है की सुसाइट नोट से ये लग रहा है कि किसी ने दबाव डालकर गन प्वाइंट पर उनसे ये लिखवाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *