सावधान : प्रदेश में तेज़ी से पाँव पसारता ब्लैक फंगस , आंकड़ा एक हज़ार के पार

Spread the love

चंडीगढ़ , 4 जून : जहां अब लोगों को कोरोना की भयंकर महामारी से कुछ राहत महसूस हो रही है , वहीं तेज़ी से ब्लैक फंगस के केस बढ़ते जा रहे हैं।  ये गंभीर मामला है।  प्रदेश में 24 घंटे में ब्लैक फंगस के 74 नए केस मिले हैं और 6 की मौत हो गई। एक दिन में नए मरीज तीन गुना बढ़ गए हैं। प्रदेश में अब तक 1025 लोग ब्लैक फंगस से पीड़ित हो चुके हैं जिनमे से सिर्फ 138 का पूरा इलाज हो पाया है, 784 पीड़ित अस्पतालों में भर्ती हैं।

तेज़ी से बढ़ते ब्लैक फंगस के बावजूद अब भी इसके इलाज में इस्तेमाल होने वाले एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन की कमी बरकरार है। 784 मरीजों के लिए 954 इंजेक्शन ही मिले। ब्लैक फंगस के मरीजों की संख्या 1000 पार होने में सिर्फ 27 दिन लगे हैं। जबकि कोरोना के 1000 मरीज 66 दिन में मिले थे। इसी से अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि ब्लैक फंगस कितनी तेज़ी से पैर पसार रहा है।

ब्लैक फंगस से सम्बंधित महत्वपूर्ण आंकड़े 

  • 500 केस प्रदेश में 11 दिनों में मिल चुके हैं।
  •  60 मरीजों की जान 6 दिनों में गई। औसत हर दिन 10 मरीजों ने तोड़ा दम।
  • 27 दिनों में ब्लैक फंगस के 92 मरीजों की मौत, कोरोना से इतनी मौतें 90 दिनों में हुई थी।
  • ब्लैक फंगस का सबसे ज्यादा कहर इन शहरों में 

    ब्लैक फंगस के सबसे ज्यादा मरीज गुड़गांव, रोहतक व हिसार में मिले हैं। गुड़गांव में 258 मरीजों में 19 की जान जा चुकी है। रोहतक में 260 मरीजों में से 14 की मौत हो चुकी है। हिसार में सबसे ज्यादा 30 मौतें हुई हैं। वहां 162 मरीज अब भी भर्ती हैं।

    इंजेक्शन को लेकर सरकारी दावा, लेकिन दवा नहीं

    सरकार ने अपने मीडिया बुलेटिन में दावा किया है कि हमारे पास 2048 इंजेक्शन स्टॉक में हैं। 3120 और जल्द मिल जाएंगे। 5 हजार का हमने ऑर्डर दे रखा है।