रेप और हत्या में सजा काट रहे डेरा राम रहीम से मिलने मेदांता अस्पताल पहुंची हनीप्रीत , अस्पताल में वही करेगी देखभाल

Spread the love

गुडगाँव , 7 जून : रेप और हत्या के मामलों में सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की मुंहबोली बेटी हनीप्रीत सोमवार को उनसे मिलने मेदांता अस्पताल पहुंची। उसने अटेंडेंट कार्ड बनवा लिया है। खुद उसने यह जानकारी दी है। अब वह अस्पताल में राम रहीम की देखभाल करेगी। वह रोजाना राम रहीम से मिलने उसके कमरे में जा सकती है। हालांकि, अस्पताल प्रशासन इसकी पुष्टि नहीं कर रहा है और न ही राम रहीम की ओर से जानकारी दी गई है।

तबीयत बिगड़ने के बाद राम रहीम को कल रविवार को गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया । यहां कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आने के बाद उसे अस्पताल के 9वीं मंजिल पर रूम नंबर 4643 में रखा गया है। अस्पताल की सीनियर फिजिशियन डॉक्टर सुशीला कटारिया की देखरेख में उसका इलाज चल रहा है। कटारिया ने बताया कि गुरमीत के पैंक्रियाज में भी शिकायत है।

अगस्त 2017 से 20 साल की काट रहा सजा
गुरमीत राम रहीम को साध्वी दुष्कर्म मामले में 20 साल की सजा मिली है। उसे 25 अगस्त 2017 को पंचकूला की अदालत में पेश किया गया था। सीबीआई  की विशेष अदालत ने दोषी करार देते हुए गुरमीत को सुनारियां जिला जेल में भेज दिया था। 27 अगस्त को जेल में ही सीबीआई की अदालत लगाई गई। इस दिन सजा तय होने के बाद से राम रहीम जेल में है।

सुनारियां जेल में सजा काट रहा गुरमीत राम रहीम सिंह पिछले 26 दिनों में चौथी बार जेल से बाहर आया है। इसमें से एक बार वह मां से मिलने पैरोल पर बाहर आया था। गुरुवार को पेट में दर्द की शिकायत के बाद उसे पीजीआई लाया गया था। दो घंटे में उसके कई टेस्ट कराए गए थे। माना जा रहा है कि उम्र बढ़ने के साथ-साथ कई दिक्कतें हुई हैं। इसी के चलते पिछले 26 दिन में तीन बार अस्पताल ले जाना पड़ा।

12 मई को ब्लड प्रेशर की समस्या और बेचैनी के बाद उसे पीजीआई लाया गया था। फिर 17 मई को इमरजेंसी पैरोल पर मां से मिलाने के लिए गुरुग्राम ले जाया गया था। उस समय पैरोल 48 घंटे की मिली थी, लेकिन सुरक्षा कारणों से पुलिस उसे शाम ढलने से पहले वापस जेल लेकर आ गई थी। इसके बाद उसे 2 जून की रात को पेट दर्द की शिकायत के बाद 3 जून की सुबह पीजीआई में चेकअप के लिए लाया गया था।