जम्‍मू-कश्‍मीर: संभावित हमले को देखते हुए सभी सेनाओं को हाई अलर्ट पर रखा गया

0
35

Jammu & Kashmir: कश्‍मीर घाटी का माहौल खराब करने और पाकिस्‍तान के कुछ आतंकी संगठनों के संभावित हमले को देखते हुए सभी भारतीय सेनाओं, सुरक्षा बलों को हाई अलर्ट किया गया है। यह आधिकारिक सूत्रों से जानकारी मिली है।

ज्ञात रहे कि कश्मीर घाटी में गत 5 अगस्त से ही कानून व्यवस्था की स्थिति का संकट बना हुआ है। हालांकि वहां पर कोई बड़ा हिंसक प्रदर्शन नहीं हुआ है, लेकिन विभिन्न इलाकों में छिटपुट हिंसक घटनाएं जारी हैं। स्थिति तनावपूर्ण किंतु नियंत्रण में है। लगभग पांच हजार से ज्यादा लोगों को एहतियातन हिरासत में लिया गया है। कइयों को नजरबंद रखा गया है। श्रीनगर में शनिवार से लैंडलाइन सेवा बहाल की जा रही है।

राज्य प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस समय कश्मीर में तैनात CRPF, BSF, SSB जहां अपने स्तर पर उचित माध्यम से केंद्रीय गृह मंत्रालय को रोज सुबह-शाम की स्थिति के बारे में रिपोर्ट कर रहे हैं। वहीं पुलिस संगठन भी केंद्रीय गृह मंत्रालय आंतरिक सुरक्षा व्यवस्था पर रिपोर्ट भेज रहा है। इस रिपोर्ट में वादी में हालात सामान्य बनाए रखने के लिए किए जा रहे उपायों, हिरासत में लिए गए नेताओं व अन्य लोगों की स्थिति का ब्यौरा है।

जम्‍मू में स्थिति करीब-करीब सामान्‍य है। माना जा रहा है कि स्थितियां सामान्‍य रहीं तो सोमवार को कश्‍मीर घाटी में भी शिक्षण संस्थान खुल सकते हैं। प्रशासन ने बीते 12 दिनों से कश्मीर में ठप अकादमिक गतिविधियों को बहाल करने पर विचार कर रहा है। शिक्षण संस्थानों को चरणबद्ध तरीके से खोला जाएगा। राज्य प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बीते 12 दिनों में तनाव के बावजूद कश्मीर स्थिति लगभग शांत और सामान्य रही है। विभिन्न वर्गों से बातचीत के आधार पर प्रशासन ने वादी में बंद पड़ी अकादमिक गतिविधियों को बहाल करने पर काम शुरू कर दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here