अमरावती में खेल शहर भारत के पहले ओलंपिक खेलों की मेजबानी के लिए तैयार किया जा रहा है

0
478

New Delhi: एपीसीआरडीए, आंध्रप्रदेश सरकार के सहयोग से “आंध्रप्रदेश: भारत के स्पोर्ट्स कैपिटल फॉर नेक्स्ट जेन चैंपियंस” पर एक कार्यशाला का आयोजन विज्ञान भवन, नई दिल्ली में सेंटर फॉर स्ट्रैटेजी एंड लीडरशिप (सीएसएल) द्वारा किया गया।
आंध्र प्रदेश अपनी आगामी नई राजधानी अमरावती के भीतर विश्व स्तरीय खेल शहर का निर्माण कर रहा है, जिसमें भारत के पहले ओलंपिक खेलों की मेजबानी की दृष्टि है। “आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन। चंद्रबाबू नायडू ने इस कार्य को स्वयं यह सुनिश्चित करने के लिए उठाया है कि ओलंपिक खेलों की मेजबानी के लिए अर्हता प्राप्त करने के लिए शीर्ष श्रेणी के खेल परिसरों और सुविधाओं का विकास किया जा सके। आंध्र प्रदेश कैपिटल रीजन डेवलपमेंट अथॉरिटी (एपीसीआरडीए) के कमिश्नर श्रीधर चेरुकुरी ने कहा, “स्पोर्ट्स सिटी तैयार होने के बाद, ओलंपिक खेलों की मेजबानी के लिए अमरावती भारत का पहला शहर होगा।” एपीसीआरडीए नोडल एजेंसी है जो अमरावती विकसित कर रही है।

कार्यशाला में बोलते हुए, भारतीय बैडमिंटन टीम के मुख्य कोच पु लेला गोपीचंद ने कहा कि आंध्र प्रदेश सरकार ने स्पोर्ट्स सिटी ब नाने में सही कदम उठाया है .
एल.वी. सुब्रमण्यम, स्पेशल चीफ  सेक्रेटरी, स्पोर्ट्स एंड यूथ अ फेयर्स, आंध्र प्रदेश: के मुताबि क “हम स्पोर्ट्स सिटी के विकास  में भाग लेने के लिए प्रमुख वैश् विक खेल विकास एजेंसियों और खेल  व्यक्तित्वों के साथ गठबंधन कर  रहे हैं। हम खेल चोटों के इलाज  के लिए, वैश्विक स्तर पर अपनी  तरह का पहला पुनर्वसन और चोट उप चार केंद्र बना रहे हैं। कम से  कम पांच खेल विश्वविद्यालय जो खे ल प्रतिभा को पोषित करेंगे। स्पो र्ट्स सिटी भी पानी के खेल और सा हसिक खेल का केंद्र होगा। ”
सेंटर फॉर स्ट्रैटेजी एंड लीडरशि प के चीफ एक्जीक्यूटिव एंड डा यरेक्टर विकास शर्मा के मुताबिक : “वैश्विक खेल उद्योग 600-700 अर ब डॉलर की सीमा में है, जिसमें  से भारत लगभग 7-8% के लिए जिम्मे दार है। स्पोर्ट्स सिटी बनाने की दृष्टि के संबंध में भारत के अ वसरों को ध्यान में रखते हुए अम रावती को भारत में खेल संबंधी ग तिविधियों के लिए केंद्र बनाना  है। खेल शहर भारत में खेल और खे ल में क्रांतिकारी बदलाव करेगा।  यह भारत में बल्कि विश्व स्तर  पर न केवल खेल के गंतव्य के लिए  सबसे अधिक मांग की जाएगी। यह श हरी और ग्रामीण भारत में खेल प् रतिभा को पोषित करने में मदद करे गा।
भावना सक्सेना, आईपीएस, ओएसडी, आर्थिक विकास बोर्ड, आंध्र प्रदेश सरकार; जेएसडब्ल्यू स्पोर्ट्स के सीईओ श्री मुस्तफा गौस; श्री सिद्धार्थ उपाध्याय, संस्थापक और महासचिव, स्टैर्स , और स्पोर्ट् स अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया के गवर्निंग बॉडी सदस्य (एसएआई); श्री किशोर टेड, सह-संस्थापक और सीईओ, बाइचुंग भूटिया फुटबॉल स्कूल, और संस्थापक ट्रस्टी, भारतीय फुटबॉल फाउंडेशन; श्री राकेश कोहली, अध्यक्ष, स्टैग स्पोर्ट्स, और सदस्य, गवर्निंग काउंसिल, स्पोर्ट्स स्किल काउंसिल; और सुश्री कंथी डी सुरेश, मुख्य संपादक, पावर स्पोर्टज टीवी भी मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here