भारतीय एयरपोर्ट्स पर 84 कर्मचारी ड्यूटी पर मिले नशे की हालत में

Spread the love
दिल्ली , 15 मई ( धमीजा ) : 42 भारतीय एयरपोर्ट्स पर कुल 84 लोग ड्यूटी पर नशे की हालत में पकड़े गए हैं। यह आंकड़े जनवरी 2021 से मार्च 2022 के बीच के हैं, जिन्हें विमानन नियामक DGCA ने जारी किया है। नशे में पाए गए इन कर्मचारियों में से कइयों को एयरपोर्ट के संचालकों ने जॉब पर रखा था।

आंकड़ों के मुताबिक भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (AAI) की ओर से संचालित 35 हवाई अड्डों पर 56 कर्मचारी शराब के नशे में पाए गए। अडाणी ग्रुप की ओर से संचालित 4 एयरपोर्ट्स पर 17 कर्मचारी नशे में धुत थे। GRM ग्रुप के 2 एयरपोर्ट्स पर 9 कर्मचारी और फेयरफैक्स इंडिया की ओर से संचालित बेंगलुरु हवाई अड्डे पर 2 कर्मचारी जनवरी 2021 और मार्च 2022 के बीच शराब की जांच में फेल पाए गए। हालांकि बेंगलुरु एयरपोर्ट प्रशासन की ओर से कहा गया कि जांच में फेल हुए 2 लोग उनके कर्मचारी नहीं हैं।

AAI ने कहा- पकड़े गए 15 कर्मचारी अनुबंधित कंपनियों के, AAI के  सिर्फ 3 
इस बारे में AAI ने कहा- जनवरी 2021 से मार्च 2022 के बीच 14 एयरपोर्ट्स पर सिर्फ 18 कर्मचारी ही नशे में पकड़े गए। ब्रीद एनालाइजर टेस्ट में फेल हुए 18 कर्मचारियों में से 3 AAI के थे। जबकि अन्य 15 AAI के साथ अनुबंध पर काम करने वाली एजेंसियों के कर्मचारी थे।

AAI का कहना है कि नशे में ड्यूटी पर आने वाले कर्मचारियों के लिए यहां कोई जगह नहीं है। एयरपोर्ट्स पर सभी विमानों के चीफ कर्मचारियों को ड्यूटी पर शराब न पीने के लिए जागरूक करते हैं। साथ ही नशे में पकड़े जाने पर मिलनी वाली सजा के बारे में बताते हैं। DGCA के मुताबिक जनवरी 2021 और मार्च 2022 के बीच एयरपोर्ट पर 84 कर्मचारियों का ब्रीद एनालाइजर टेस्ट हुआ, इनमें से 54 कर्मचारी टेस्ट में फेल हो गए।

टेस्ट में फेल होने पर मिलती है सख्त सज़ा 
अगर कोई कर्मचारी पहली बार शराब की जांच में नशे में पाया जाता है या कर्मचारी जांच कराने से इनकार करता है या एयरपोर्ट से भागने की कोशिश करता है तो उसे ड्यूटी से निकाल देते हैं। कर्मचारी का लाइसेंस भी 3 महीने के लिए निलंबित किया जाता है।