फाउंड्री एसोसिएशन ने वायु गुणवता प्रबंधन आयोग द्वारा औद्योगिक इकाइयों में मैटार्लजिकल कोक उपयोग की छूट का स्वागत किया

Spread the love

फरीदाबाद, 11 जून ( धमीजा) :  फरीदाबाद फाउंड्री एसोसिएशन ने वायु गुणवता  प्रबंधन आयोग द्वारा औद्योगिक इकाइयों में मैटार्लजिकल कोक उपयोग करने की छूट के निर्णय का स्वागत किया है।
एसोसिएशन के पोल्यूषन कमेटी के सदस्य कपिल माटा ने बताया कि एनसीआर क्षेत्र में बढ़ रहे प्रदूषण के कारण आयोग ने राज्य सरकारों से उनकी सीमा में कार्यरत इकाइयों में पूरी तरह से पीएनजी तथा बायो मास ईंधन प्रयुक्त करने के निर्देश जारी किए थे। उन्होंने बताया कि इस निर्देश के अंतर्गत इकाइयों को 30 सितंबर तक पीएनजी तथा बायो मास ईंधन पर स्वयं को स्थानातंरित करना होगा या 31 दिसंबर तक इकाई को पूर्ण रूप से बंद करना होगा।
एसोसिएशन के महासचिव अरूण जिंदल ने कहा कि एसोसिएशन द्वारा वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग के समक्ष मैटार्लजिकल कोक के प्रयोग हेतु एसोसिएशन द्वारा मांग रखी गई तो उस पर कई प्रकार के प्रयोग एवं रिपोट्र्स का हवाला दिया गया जिसे आयोग द्वारा सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड तथा सरकार के दिशा निर्देश द्वारा स्वीकृति प्रदान की गई।
महासचिव अरूण जिंदल ने आयोग एवं सरकार का धन्यवाद करते कहा कि आयोग द्वारा जारी नई सूची निर्देश का एनसीआर में कार्यरत उद्योगों को विशेष लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि नए निर्देश अनुसार एनसीआर में कुपला के उपयोग में मैटार्लजिकल कोक को प्रयोग में लाने से लघु एवं मध्यम उद्योगों को लाभ मिलेगा वही पर्यावरण तथा रोजगार दोनों को लाभ मिलने की आशा है क्योंकि प्रदूषण मात्रा बढऩे पर इकाइयों को बंद रखने की आदेश जारी कर दिए जाते थे।
श्री जिंदल ने कहा कि आयोग एवं सरकार बधाई के पात्र है जिन्होंने औद्योगिक इकाइयों तथा देश हित में एसोसिएशन के सुझावों को गंभीरता से लेते हुए लो एश कोक को मंजूरी प्रदान की। श्री जिंदल ने कहा कि एसोसिएशन अपने सदस्यों के श्रमिको के स्वास्थ्य लाभ पहुंचाने हेतु विभिन्न शिविरों का आयोजन समय समय पर करती रही है। उन्होंने कहा कि संगठन अपने सदस्यों को वर्तमान में आने वाली औद्योगिक दिक्कत ओर चुनौतियों को अवगत करवा उसका निवारण करने हेतु प्रयासरत हैं।
एसोसिएशन के उपप्रधान डा दीवान डी लाल चोपड़ा ने आयोग एवं सरकार से अपील की है कि एनसीआर में कार्यरत उद्योगों से संबंधित दिशा-निर्देश लागू करने से पूर्व औद्योगिक संगठनों से परामर्श अवश्य मंगाए।
डा.चोपड़ा ने सरकार तथा आयोग को यह आश्वस्त किया है कि उनका संगठन पर्यावरण में सुधार लाने हेतु प्रयासरत रहेगा।
श्री चोपड़ा ने बताया की संगठन अपने सदस्यो को न्यूनतम दरों पर रॉ मैटीरियल दिलवाने हेतु वचनबद्ध है जिसके लिए संगठन द्वारा विभिन्न सरकारी एवं गैर सरकारी समूहों से एमओयू साइन कर रखा है।
उन्होंने संस्था के अन्य सदस्य संजीव गुप्ता, करण चोपड़ा, सनी गोयल, विक्रम चोपड़ा, अरुण सरीन का भी आभार व्यक्त किया जो संस्था के सहयोग हेतु सदैव तत्पर रहे और रहते हैं। ज्ञात्व है की फरीदाबाद फाउंड्री एसोसिएशन एनसीआर सहित समूची भारत में एकमात्र संगठन है जो मेट्रलजिकल कोक की छूट हेतु संघर्षित रही।