Wednesday, June 19, 2024
Latest:
HaryanaLatestNationalNCRPoliticsTOP STORIES

विधायक राजेश नागर की भाजपा प्रदेश प्रभारी बिप्लव देब से मुलाक़ात के राजनैतिक मायने , चर्चाओं का बाजार गर्म

Spread the love
फरीदाबाद, 16 मई ( धमीजा ) : तिगांव के भाजपा विधायक राजेश नागर की हरियाणा भाजपा प्रभारी के साथ मीटिंग को राजनैतिक हलकों में महत्वपूर्ण माना जा रहा है। विधायक नागर ने मिलकर उन्हें अपने विधानसभा क्षेत्र में आने का निमंत्रण भी दिया है। इससे पूर्व श्री नागर अपने विधानसभा क्षेत्र में सीएम की सभा में खुले तौर पर कह चुके हैं कि प्रशासनिक अधिकारी काम करने की बजाय राजनीति कर रहे हैं ,वह कहते हैं कि उन्हें उनके काम करने से रोका जा रहा है। उन्होंने सार्वजानिक रूप से कहा था , सीएम साहब ऐसे अफसरों को आप अपने साथ चंडीगढ़ ले जाओ। सीएम की सभा में मंच पर ये बोलने पर मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने प्रशासनिक अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा था कि ऐसे अधिकारियों को किसी भी हालत मे बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। श्री नागर ने दिल्ली में हरियाणा प्रदेश भाजपा प्रभारी बिप्लव देब से हुई इस बैठक को शिष्टाचार मुलाकात बताया है । इससे पूर्व पिछले दिनों मुख्यमंत्री मनोहरलाल श्री नागर के निवास पर भी आये थे। इन सब के महत्वपूर्ण मायने निकाले जा रहे हैं।
आज मुलाक़ात के बाद विधायक राजेश नागर ने कहा कि बिप्लव देब किसी कार्यकर्ता से एक बार मिल लेते हैं तो फिर नहीं भूलते। वह इस प्रकार प्रदेश के ही हजारों कार्यकर्ताओं को उनके नाम से पहचानते हैं और उनके गुणों को भी जानते हैं। श्री नागर ने कहा कि नेताजी के साथ उनकी बड़ी ही आत्मीय मुलाकात रही। इस दौरान उन्होंने हरियाणा के वर्तमान हालातों पर चर्चा की और भविष्य के मुद्दों पर भी बात हुई। इसके साथ ही नागर ने अपने तिगांव विधानसभा क्षेत्रए यहां के लोगों, राजनैतिक ताना बाना, विकास कार्य, प्रशासनिक कार्यप्रणाली आदि के बारे में भी प्रभारी को बताया।
विधायक राजेश नागर ने बिप्लव देब से उनके क्षेत्र में आने की प्रार्थना की जिस पर उन्होंने जल्द आने की बात कही। नागर ने बताया कि प्रभारी बिप्लव देब के शासकीय अनुभव से हरियाणा प्रदेश में तीसरी बार भी भाजपा सरकार बनने का उनका आत्मविश्वास बढ़ा है। प्रदेश में सुशासन की बयार बह रही है जिससे आम हरियाणा वासी प्रसन्न है। उन्होंने कहा कि हमारे मुखिया मनोहर लाल ने हरियाणा एक हरियाणवीं एक के मंत्र को अंत्योदय से जोडक़र एक नई राह दिखाई है। जिससे अगले वर्ष होने वाले लोकसभा और विधानसभा चुनावों में जीत का दृश्य स्पष्ट हो रहा है।