Sunday, May 19, 2024
Latest:
BusinessHaryanaLatestNationalNCRPoliticsTOP STORIES

विधानसभा सत्र : मंत्री संदीप सिंह का मुद्दा छाया , एमएलए सीमा त्रिखा ने उठाया ग्रीनफ़ील्ड कॉलोनी के विकास का मुद्दा, दिया बहन की राखी का वास्ता

Spread the love

चंडीगढ़ , 28 अगस्त ( धमीजा ) : आज सोमवार को हरियाणा में विधानसभा के मानसून सत्र के दूसरे दिन की कार्यवाही के आरम्भ में मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने विश्व एथलेटिक चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल लाने पर एथलीट नीरज चोपड़ा को बधाई दी। उन्होंने कहा कि नीरज ने हरियाणा के साथ पूरे देश का नाम रोशन किया है।

इसके बाद जूनियर महिला कोच के साथ सेक्सुअल हैरेसमेंट के आरोपों से घिरे संदीप सिंह के इस्तीफे को लेकर सदन में विपक्ष ने सदन में जमकर हंगामा किया। कुछ विधायक वेल तक पहुंच गए। पूर्व सीएम और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा ने कहा कि सीएम कह रहे हैं कि मामला कोर्ट में विचाराधीन है तो उन्हें स्वयं ही इस्तीफा दे देना चाहिए। या सीएम खुद ही उनसे इस्तीफा मांग लें। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्ष के लोग किसी एक्शन के लिए बाध्य नहीं कर सकते। हमने बोलना शुरू किया तो धज्जियां उड़ जाएंगी।

सीएम के इस वाक्य को सदन में हुड्‌डा ने मुद्दा बना लिया। उन्होंने कहा कि ये सीएम की लोकतांत्रिक भाषा नहीं है। इस पर स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता ने कहा कि यदि यह शब्द (धज्जियां) हमारी सूची जो अलोकतांत्रिक शब्दों की बनी है, उसमें होगा तो यह शब्द डिलीट हो जाएगा।

एमएलए सीमा त्रिखा ने ग्रीनफ़ील्ड कॉलोनी की आवाज़ उठाई, विधानसभा में रक्षाबंधन पर मंत्री को दिया बहन का हवाला 

बड़खल विधायक सीमा त्रिखा ने ग्रीनफील्ड कॉलोनी के विकास का मुद्दा सदन में उठाते हुए कहा कि इस कॉलोनी को नगर निगम में स्थानांतरित किया जाए ,ताकि सड़कें आदि बन सकें। श्रीमती त्रिखा की मांग पर स्थानीय स्वशासन मंत्री कमल गुप्ता ने कहा कि इस कॉलोनी का मामला अदालत में विचाराधीन है ,इसलिए सरकार यहां विकास पर खर्च नहीं कर सकती। मंत्री का जवाब सुन विधायिका सीमा त्रिखा ने कहा कि क्या किसी अदालत ने दो पार्टियों के मामले में ऐसा आदेश सरकार को दिया है कि वहां किसी प्रकार का विकास वहाँ की जनता के लिए नहीं किया जाना चाहिये। यदि ऐसा आदेश अदालत ने नहीं दिया दिया तो वहाँ की जनता परेशानी क्यों भुगते। जबकि इस कॉलोनी को नगर निगम को स्थानांतरित करने के लिए सीएम मनोहरलाल भी कह चुके हैं और सदन में सीएम का धन्यवाद् भी किया गया था।

श्रीमती त्रिखा ने जनता का दर्द ब्यान करते हुए कहा कि वैसे तो समय को कभी कोई बांड नहीं पाया ,लेकिन ये समय रक्षाबंधन का है और मैं एक बहन के नाते मंत्री जी से इस कॉलोनी के विकास की बात उठा रही हूँ और आशा करती हूँ कि मंत्री बहन को सकारात्मक आश्वासन देंगे। उनकी इस बात पर स्वशासन मंत्री कमल गुप्ता ने कहा कि वह बहन का आदर करते हैं और पूरा आश्वासन देते हैं कि ग्रीनफील्ड कॉलोनी की सड़कें और विकास आवश्य  किया जायेगा।

स्पीकर और डिप्टी CM आए आमने-सामने

स्पीकर ने कहा कांग्रेस के विधायक राव दान सिंह समेत अन्य से अल्प अवधि सूचना प्रस्ताव मिला है जिसे ध्यानाकर्षण में मंजूर किया गया है। डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने विधानसभा के नियमों के मुताबिक एतराज जताया और कहा अल्प अवधि को ध्यानाकर्षण में तब्दील नही किया जा सकता है। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि विधानसभा में गलत परंपरा शुरू नहीं की जानी चाहिए क्योंकि सदन में अल्प अवधि को ध्यानाकर्षण में नही बदला जा सकता है। इस पर स्पीकर ने कहा कि विधानसभा नियम और कन्वेंशन से चलती है। स्पीकर ने कहा 7 अगस्त 2012 को अल्प अवधि को कॉलिंग अटेन्शन में बदला जा चुका है। इसके अलावा भी स्पीकर ने कई अन्य रेफरेंस SA को CA में बदले जाने की जनकारी दी। डिप्टी सीएम के ऐतराज के चलते अल्प अवधि को ध्यानाकर्षण में बदलकर चर्चा करने को 30 मिनट स्थगित किया गया।

स्वास्थ्य सुविधाओं के मुद्दे पर विज ने कहा स्पेशलिस्ट डॉ भी किये जायेंगे भर्ती 
सदन में स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर विधायकों ने सवाल उठाया। इस पर गृह मंत्री अनिल विज ने बताया कि हरियाणा सरकार ने प्रदेश में PHC और अन्य अस्पतालों की जरूरत के हिसाब से स्थापना के लिए मैपिंग करवाने का फैसला किया है। इसकी रिपोर्ट जल्द ही सरकार को मिल जाएगी। डॉक्टर की मैपिंग करवाने वाला हरियाणा देश का पहला राज्य है। केंद्र सरकार ने भी हरियाणा के कदमों की सराहना की है।
हेल्थ मिनिस्टर ने बताया कि हरियाणा में पहले सिर्फ एमबीबीएस डॉक्टर की भर्ती होते थे, लेकिन आप सरकार स्पेशलिस्ट डॉक्टर की भर्ती करेगी। स्पेशलिस्ट डॉक्टर के सर्विस रूल भी अलग होंगे।

दुष्यंत को झूठा कहने पर चाचा भतीजे में हुई तनातनी 

एक सवाल के जवाब में अभय सिंह चौटाला डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला से नाराज हो गए। उन्होंने अपने भतीजे दुष्यंत को झूठा तक कह डाला। इस दौरान दोनों के बीच जमकर बहस हुई। इधर सदन में समय की कमी को देखते हुए स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता ने दो बार सत्र का टाइम बढ़ाया। उन्होंने पहले 15 मिनट और बाद में 30 मिनट का टाइम बढ़ाने की घोषणा की।

नाराज अभय ने कहा , सरकार नहीं लूटने वालों का टोल 

सदन में INLD विधायक अभय सिंह चौटाला ने विधानसभा में कहा कि पिछले सेशन में उन्होंने पूछा था कि किसान पर कर्ज कितना है, लेकिन अभी तक मुझे कोई जवाब नहीं मिला है। शराब घोटाले पर मुझे कहा गया था आपको जवाब मिल जाएगा लेकिन नहीं मिला। स्पीकर से अभय ने कहा आप सरकार से पूछो जवाब क्यों नहीं दिया। अभय सिंह ने कहा यह सरकार नहीं लूटने वालों का टोल है।

3 महत्वपूर्ण विधेयकों पर होगी चर्चा

सदन में 10 साल पहले खर्च हुए बजट को विधानसभा में पास कराएगी। प्रदेश में 7 साल में 3595 करोड़ रुपए ज्यादा खर्च कर दिए गए। इसके अलावा सदन में फसल बीमा और बाजरे की खराब हुई फसल का मुद्दा सत्तापक्ष के साथ विपक्ष के विधायक उठाएंगे। इसको लेकर ध्यानाकर्षण प्रस्ताव लगाया गया है।

इसके अलावा सदन में तीन विधेयक भी पास कराए जाएंगे। इनमें फ्लोरवाइज रजिस्ट्रेशन के अलावा बीसी-ए को आरक्षण और निजी जमीन पर कॉलोनी बसाने के लिए नगर निकायों से प्रस्ताव पास न कराने से संबंधित विधेयक भी शामिल हैं। इसके अलावा सोनीपत मेट्रोपॉलिटन डेवलपमेंट अथॉरिटी से संबंधित विधेयक भी पेश किया जाएगा।