तूफानी बारिश ने खोली निगम की पोल – शहर हुआ जलमग्न , सीवरेज जाम , बिजली गुल , पॉश इलाके भी बने बदतर

Spread the love
फरीदाबाद, 23 मई ( धमीजा) : औद्योगिक नगरी फरीदाबाद में आज हुई मूसलाधार बारिश ने सारे शहर को जलमग्न कर दिया। लगातार सुबह के समय हुई तीन घंटे की तूफानी बरसात ने निगम के दावों की पोल-खोल कर रख दी। शहर की सभी छोटी-बड़ी सड़कें तालाब में तब्दील हो गई। चारों ओर शहर में बाढ़ जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई।
तेज हवा के साथ हुई बरसात, ओलावृष्टि व तूफान के चलते आज सैकड़ों की तादाद में छोटे-बड़े पेड़ टूटकर सडक़ों पर गिर गए। वहीं तेज हवाओं के चलते अलग-अलग जगहों पर कई लाखों का नुकसान हो गया। लोगों के घरों में गंदा पानी भर गया। जलभराव के चलते आम शहर वासी घरों में कैद हो गए। लोग अपने कार्यालय तक नहीं पहुंच पाए, तो छात्र बरसात के चलते दसवीं की परीक्षा में लेट पहुंचे और हजारों बच्चे स्कूल जाने से वंचित रहे गए। कई इलाकों में स्कूलों की बसें, वैन आदि तक नहीं पहुंच पाई तो 60 फुट लास्ट में स्कूल बस बंद होने के चलते अभिभावक अपने बच्चों को कंधे पर बैठाकर बस से वापिस सुरक्षित जगह पर लेकर आते देखें गए।
शहर के निचले इलाके डबुआ कालोनी, जवाहर कालोनी, पर्वतीय कालोनी, संजय कालोनी, कपड़ा कालोनी, सुन्दर कालोनी, एसजीएम नगर, मुजेसर, नंगला, बडख़ल, गांधी कालोनी, किसान-मजदूर कालोनी ओल्ड़ फरीदाबाद, बल्लभगढ़, सराय क्षेत्र की विभिन्न कालोनी में बरसात के चलते कई घंटे बिजली भी गुल रही है।
वहीं पॉश इलाके सैक्टर-14, 15, 16, 17, 18, सैक्टर-7, 8, 9, 10, सैक्टर-3 आदि क्षेत्रों में भी बरसात का पानी कई-कई फुट खड़ा रहा। शहर के व्यस्तम पुल नीलम, बाटा,
बल्लभगढ़ पर भीषण जाम देर सायं तक लगा रहा। इसके अलावा बरसाती पानी भरने से ओल्ड, मेवला, एनएचपीसी अंडरपास पूरी तरह से डूबे रहे तथा आवागमन भी बंद रहा।
सडक़ों के निर्माण के चलते कई स्थानों पर लोगों की गाडिय़ों, स्कूटर व मोटर साईकिल गड्डों में फंसे नजर आए।
सिविल अस्पताल के कमरा नम्बर-19 में बरसात के चलते प्लास्टर गिर गया। इस हादसे के बाद कमरे को बंद कर दिया गया। नहरपार स्थित हाईराईज बिल्डिंगों के बेसमेंटों में पानी भर गया।

निगमायुक्त ने लिया  जायजा
सुबह भारी बारिश के कारण जलभराव की स्थिति का जायजा लेने के लिये निगमायुक्त यशपाल यादव ने एनआईटी क्षेत्र का दौरा किया और सैक्टर 21ए, 21सी और मुजेसर डिस्पोजल का भी निरीक्षण किया। इस निरीक्षण के दौरान उनके साथ मुख्य अभियंता, अधीक्षण अभियंता व कार्यकारी अभियंता भी थे।
निगमायुक्त ने बताया कि आज भारी वर्षा के कारण कुछ स्थानों पर जलभराव की स्थिति उत्पन्न हो गई थी। जिसके चलते कुछ स्थानों का निरीक्षण किया तथा सैक्टर-21ए, 21सी और मुजेसर के डिस्पोजल का भी निरीक्षण किया और पाया कि सभी डिस्पोजल चल रहे थे जिसके फलस्वरूप लगभग 2-3 घंटे के अन्दर ही सभी जगहों से पानी की निकासी हो गई। जिन डिस्पोजलों पर कुछ कमी पाई गई उसको दुरूस्त करने के लिए निगमायुत ने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिए।
निगमायुक्त ने आगे बताया कि आने वाले मानसून में पानी की निकासी के लिए निगम ने पूरे प्रबन्ध किए हुये है और किसी भी स्थिति को निपटने के लिए सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दे दिये गये है।
 
सेक्टर -16 के विवेकानंद ब्लॉक में बिजली पानी हुआ गुल , इलाका हुआ जलमग्न 
सेक्टर -16 में मोती महल मोड़ पर शाम तक तीन तीन फुट पानी भरा हुआ है , आवागमन मुश्किल हो रहा है।  गाड़ियां फंस रही हैं लेकिन प्रशासन या सरकार के किसी नुमाइंदे ने भी सुध लेने की ज़ेहमत नहीं उठाई।  जबकि सोशल मीडिया पर फोटोग्राफ्स एवं वीडियो खूब वायरल हुई।  इसी के साथ लगती रिहायशी पॉकेट स्वामी विवेकानंद ब्लॉक के लोगों में भारी रोष है।  सुबह से बिजली और पीने के पानी की भारी किल्लत हो रही है।  बिजली थोड़ी  आती है और घंटों गुल हो रही है। इसी के चलते पूरा दिन पीने का पानी तक नहीं आया। और पूरा इलाका बरसाती पानी में जलमग्न रहा है।  सीवर का पानी बैक मार रहा था और लोगों के घरों में गंदा पानी घुस गया। पूरा दिन यहां के निवासी घरों से पानी निकलने में लगे रहे।  हालांकि पिछले हफ्ते  पहले नगर निगम ने इसी पॉकेट में सीवरेज साफ़ करवाने की औपचारिकता पूरी की थी , लेकिन वह कितनी साफ़ हुई इसका पता आज ही लग गया। विवेकानंद ब्लॉक निवासी पीके गुप्ता ने ब्लॉक एसोसिएशन के ग्रुप में लिखा “पहली बरसात ने ही साबित कर दिया कि सीवरेज लाईनें पूरी तरह से ब्लॉक हैं, पिछले हफ्ते निगम ने सीवरेज सफाई के नाम पर मात्र औपचारिकता की ” दिखावे के लिए ही गंदगी निकाली। उनके पडौसी असीम बहल ने कहा की वह बिलकुल सही कह रहे हैं। पियूष पूरी ने लिखा की उनके घर के अगले पिछले हिस्से के साथ साथ वाशरूम और रसोई में भी पानी भर गया।  वहीँ घंटों बिजली गुल रहने पर प्रतिमा चड्ढा पूछती  रही कि बिजली कब आएगी लेकिन विभाग का कोई अधिकारी इसका संतोषजनक जवाब नहीं दे पाया और लगभग पूरा दिन बिजली गुल रही। एसोसिएशन के पूर्व प्रधान अश्वनी खुल्लर एवं गौरव लूथरा सहित अनेक निवासी ग्रुप में मेसेज डाल कर रोष प्रकट करते रहे और लगातार सम्बंधित अधिकारियों को फोन करते रहे। इसी ब्लॉक में रहने वाले नितिन मालिक , अंकित गुप्ता ,डॉ नीरज गुप्ता ,सोनिया शमा पुरी तथा असीम बहल सहित अनेक निवासी इन्ही मुद्दों पर चिंता एवं रोष व्यक्त करते रहे।