भूपेंदर हुड्डा पहुंचे रायपुर , राजयसभा में अजय माकन के समर्थन में एकजुट रहने और जीतने का दिया संदेश

Spread the love

फरीदाबाद , 7 जून ( धमीजा ) : हरियाणा के कांग्रेसी विधायकों से मिलने के लिए नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा आज रायपुर पहुंचे। जबकि हरियाणा प्रभारी विवेक बंसल सोमवार को रायपुर पहुंच गए थे। आज करीब 4  दिनों बाद हुड्‌डा ने कांग्रेसी विधायकों से मुलाक़ात की । इससे पहले शुक्रवार को पूर्व सीएम ने दिल्ली में कांग्रेसी विधायकों के साथ मीटिंग की थी।

छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश और राजीव शुक्ला भी मिले

कांग्रेसी विधायकों से छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल और कांग्रेसी नेता राजीव शुक्ला ने भी सोमवार को मुलाकात की थी। दोनों ने कांग्रेस उम्मीदवार अजय माकन की जीत का दावा किया था। दोनों को राज्यसभा चुनाव के लिए ऑब्जर्वर नियुक्त किया गया है। सीएम भूपेश बघेल ने विधायकों को कहा कि हरियाणा का राज्यसभा चुनाव दो प्रदेशों की राजनीति को प्रभावित करेगा। छत्तीसगढ़ में भी चुनाव आने वाले हैं और हरियाणा में भी। उससे पहले लोकसभा चुनाव है। ऐसे में कांग्रेस यह राज्यसभा सीट जीतकर भाजपा को कड़ा संदेश देगी। वैसे तो कांग्रेस संख्या बल के अनुसार सीट जीत रही थी, परंतु भाजपा ने अपनी ओछी राजनीति करते हुए निर्दलीय का समर्थन किया।

2 सीटों पर 3 उम्मीदवार

हरियाणा की दो राज्यसभा सीटों पर तीन नामांकन दाखिल किए गए हैं। भाजपा के कृष्ण लाल पंवार और कांग्रेस के अजय माकन और निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर कार्तिकेय शर्मा भी चुनाव मैदान में उतरे हैं। उन्हें जजपा के 10 विधायकों और निर्दलीय उम्मीदवारों का समर्थन प्राप्त है।

निर्दलीय विधायक और बिजली मंत्री रणजीत सिंह ने उनका नामांकन दाखिल करवाया था। कार्तिकेय शर्मा पूर्व मंत्री विनोद शर्मा के बेटे और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एवं कांग्रेसी नेता कुलदीप शर्मा के दामाद हैं। कुलदीप शर्मा की भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा के साथ दोस्ती जग जाहिर है। विनोद शर्मा भी हुड्‌डा के करीबी रहे हैं।

कुलदीप बिश्नोई कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष का पद न मिलने से नाराज चल रहे हैं। इसलिए वे कांग्रेस से दूरी बनाए हुए है। राज्यसभा चुनाव में जीत पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा की प्रतिष्ठा का प्रश्न बना हुआ है। इसलिए क्रॉस वोटिंग के भय से कांग्रेस के 27 विधायकों को रायपुर भेजा गया। वोटिंग 10 जून को होगी।

पहले उम्मीदवार को जीत के लिए 31 वोट चाहिए, जबकि दूसरी सीट के लिए 30 वोट। भाजपा के पास 40, जजपा के 10, कांग्रेस 31, इनेलो 1, हलोपा 1 और 7 निर्दलीय विधायक हैं।