केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत का नाम लेकर अस्पताल संचालक द्वारा धमकाने का मामला गरमाया , आडियो वायरल , मंत्री ने दी एसपी को शिकायत

Spread the love

गुडगाँव , 1 जुलाई ( धमीजा ) : केन्द्रीय मंत्री राव इन्द्रजीत का नाम लेकर एक अस्पताल संचालक द्वारा एक दवा विक्रेता को धमकाने का मामला गर्मा गया है   । मामले की ऑडियो रिकॉर्डिंग वायरल होने के बाद अब केन्द्रीय मंत्री ने रेवाड़ी एसपी राजेश कुमार को अस्पताल संचालक पर कार्रवाई करने की शिकायत भेजी है। वायरल ऑडियो रिकॉर्डिंग में अस्पताल संचालक मंत्री का नाम लेकर दवा विक्रेता को धमका रहा है।

दरअसल, पिछले दो दिनों से सोशल मीडिया पर एक ऑडियो रिकॉर्डिंग वायरल हो रही है , जिसमें रेवाड़ी स्थित निजी अस्पताल के संचालक डॉ. आरके ने दवाई विक्रेता से मोबाइल पर कहा है कि यह अस्पताल राव इन्द्रजीत सिंह के नाम से चलता है। डॉक्टर दवाई सप्लायर को खुद का नाम बताता है और कहता है कि एक बार अस्पताल में आकर मिलना, मेडिसन के बारे में बात करनी है। सामने वाला व्यक्ति कहता है कि हमारा पहले वाला हिसाब नहीं हुआ, इसलिए डीलिंग बंद कर दी है। डॉक्टर कहता है कि हिसाब मैं ही करूंगा।

दवाई विक्रेता भी सीधा सपाट जवाब देते हुए कहता है कि 10 बार हो आए, आपका स्टाफ ही ऐसा है। डॉक्टर ने जवाब दिया कि स्टाफ को गोली मार, जब डारेक्टर बात कर रहा है। ऑडियो रिकॉर्डिंग में डॉक्टर कहता है मेरा नाम सुना है डॉ. आरके और राव इन्द्रजीत सिंह के नाम से मेरा अस्पताल चलता है। तेरे को यही नहीं पता फोन कर कौन रहा है। इस बीच दोनों के बीच आपसी बहस होती है। 2 मिनट 27 सेकेंड की इस ऑडियो में डॉक्टर और दवा विक्रेता के बीच धमकी भरे लफ्जों में बात होती है। यह ऑडियो रिकॉर्डिंग रेवाड़ी व महेन्द्रगढ़ में तेजी से वायरल हुई।

ऑडियो रिकॉर्डिंग वायरल होने के बाद शुक्रवार को केन्द्रीय मंत्री राव इन्द्रजीत सिंह ने एसपी राजेश कुमार को पत्र लिखाकर बताया कि उनके संज्ञान में एक ऑडिया और कुछ पेपर की कटिंग आई है। जिसे शिकायत के साथ अटेच किया गया है। जिसमें मेरा नाम गलत इस्तेमाल किया गया है। इस ऑडियो में रेवाड़ी स्थित एक अस्पताल के डॉक्टर द्वारा दवाई विक्रेता को मेरा नाम लेकर गलत रूप से धमकाया जा रहा है। मेरा डॉक्टर और अस्पताल से कोई संबंध नहीं है। मेरे नाम का दुरुपयोग करने वाले डॉक्टर व अस्पताल के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए। पुलिस अब पूरे मामले की जांच में जुटी है।