शौचालयों का निरीक्षण करने पहुंची मेयर से बतमीज़ी से पेश आये एसडीओ , मेयर ने उच्च अधिकारियोंको लिखा पत्र

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
फरीदाबाद, 23 फरवरी :  शहर को स्वच्छ और साफ-सुथरा रखने के लिए मेयर सुमन बाला को आज अधिकारियों के साथ एनआईटी क्षेत्र में बने व रखे गए शौचालय के  निरीक्षण के दौरान निगम एस डी ओ ने महापौर के साथ बेहद बदतमीज़ी से बातचीत की। मेयर ने इस मामले की शिकायत निगम आयुक्त एवं चंडीगढ़ उच्च अधिकारियों से की है। इस मामले को लेकर निगम के तमाम पार्षदों सहित शहर के लोगों में भारी रोष है।  लोगों का कहना है कि ऐसे भ्रष्ट अधिकारी के खिलाफ सरकार को सख्त कार्रवाई करनी चाहिये।
  स्वच्छ भारत मिशन के एक एसडीओ मेयर पर इस कदर आग बबूला हो गया कि उसने अपनी गलती मानने के बजाय मेयर पर ही सरकार को बदनाम करने का आरोप लगा डाला। मेयर से बदसलूकी करने के बाद बगैर समस्या का समाधान किए ही वापस लौट गया।  मेयर सुमनबाला ने शहरी स्थानीय निकाय के मुख्य सचिव और नगर निगम आयुक्त को पत्र लिखकर उक्त अधिकारी के खिलाफ  अनुसासनात्मक कार्रवाई करने की सिफारिश की है। मेयर का कहना है कि उन्हें शौचालयों से संबंधित लगातार शिकायतें आ रही थी, जिसके बाद आज वह उनका निरीक्षण करने गई थी।
जानकारी के अनुसार एनआईटी पांच नंबर सेंट जोसफ स्कूल के सामने नगर निगम शौचालय बनवाया है। वह गंदा रहता है। उसमें न तो टोटी है और न ही पानी की व्यवस्था की गई है। ऐसे में लोगों को परेशानी हो रही है। मंगलवार को मेयर सुमन बाला मौके पर निरीक्षण करने पहुंची, तो वहाँ एसडीओ सुरेंद्र खटृृटर भी पहुंच गए। मेयर ने जब शौचालय की हालत देखी और कहा कि निगम करोड़ों रूपया  खर्च कर रहा है तो उसकी ठीक से देखभाल क्यों नहीं हो रही है। यह पैसा जनता का है और इस शौचालय को जनता इस्तेमाल करेगी। इस दुर्दशा को देखकर पब्लिक हमें, सरकार को और निगम अधिकारियों को बुरा-भला कहती है। मेयर के इतना कहते ही एसडीओ सुरेंद्र खट्टर आग बबूला हो गए।
एसडीओ सुरेन्द्र खट्टर ने मेयर सुमन बाला को कहा कि मैडम आप बेवजह प्रोपोगंडा कर रहे हो। सरकार को आप बदनाम कर रहे हो।  हैरानी की बात ये है कि मौके पर सैकड़ों लोग खड़़े थे और एसडीओ मेयर को ऊंची आवाज़ में भली बुरी सुनाता रहा। इस निगम अधिकारी की बात सुनकर पब्लिक भी हैरान रह गयी। पब्लिक का कहना था कि जब निगम अधिकारी मेयर की ही नहीं सुन रहा तो आम जनता से कैसा व्यवहार करता होगा अंदाजा लगाया जा सकता है।
मेयर सुमन बाला ने शहरी स्थानीय निकाय विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव को लिखे पत्र में कहा है कि वह स्वच्छ भारत मिशन के तहत एनआईटी पांच स्थित निगम द्वारा बनाए गए शौचालय की हालत देखने पहुंची थी। वहां एसडीओ सुरेंद्र खटृृटर को भी बुलाया गया था। जब सौचालय की हालत देखकर उनसे सवाल जवाब किया गया तो उन्हें गुस्सा आ गया और वह अपमानजनक शब्दों  का प्रयोग करते हुए बगैर समस्या का समाधान कराए गायब हो गए। एसडीओ की ये हरकत निगम सदन की अवमानना के दायरे में आती  है। ऐसे अधिकारी के खिलाफ सख्त अनुसासनात्मक कार्रवाई की जाए। इस बारे में जब एसडीओ से संपर्क कर उनका पक्ष जानने का प्रयास किया तो उन्होंने फोन नहीं उठाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *