Saturday, April 13, 2024
Latest:
BusinessFEATUREDHaryanaLatestNationalNCRPoliticsTOP STORIES

हरियाणा का पहला इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर बनेगा सेक्टर -78 फरीदाबाद में , पेयजल के लिए लगेंगे 12 नए रेनीवेल

Spread the love

फरीदाबाद , 17 नवंबर ( धमीजा ) : हरियाणा के मुख्य सचिव ने आज प्रदेश भर की बड़ी परियोजनाओं की समीक्षा करते हुए ग्रेटर फरीदाबाद में इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर बनाने तथा पेयजल आपूर्ति पर भी अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए। यह कन्वेंशन सेंटर सेक्टर -78 में बनाया जाना है। इस समीक्षा में मुख्य सचिव संजीव कौशल ने हरियाणा में करीब 43 हजार करोड़ की लागत से बनाए जाने वाली 47 बड़ी परियोजनाओं पर चर्चा की। समीक्षा के दौरान शहरी स्थानीय निकाय विभाग के एक अफसर ने गलत प्रोग्रेस रिपोर्ट दी। इस पर मुख्य सचिव ने नाराज़गी व्यक्त करते हुए संबंधित विभाग के अधिकारियों को तत्काल सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए।

मुख्य सचिव कौशल ने शहरी स्थानीय निकाय के प्रशासनिक सचिव को निर्देश दिए कि मुख्यालय स्तर और फील्ड कार्यालयों में कार्य प्रणाली को दुरुस्त किया जाए। मुख्य सचिव ने अफसरों को निर्देश दिए कि अधिकारी स्वयं मौके पर जाकर ऐसी बड़ी परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा करें ताकि इनके क्रियान्वयन में देरी न हो। साथ ही कॉन्ट्रैक्टर को भी परियोजनाओं को तय समय में पूरा करने के सख्त निर्देश दिए जाएं।

हरियाणा की बड़ी परियोजनाओं के काम में तेजी लाने के लिए प्रत्येक प्रोजेक्ट के लिए सब कमेटी बनाने के मुख्य सचिव ने निर्देश दिए। इस सब कमेटी में उस परियोजना से संबंधित अन्य विभागों के प्रतिनिधियों को भी शामिल करने के लिए भी मुख्य सचिव ने हिदायत दी। समीक्षा बैठक में प्रशासनिक सचिव भी उपस्थित रहे।

पहले इंटरनेशनल कनवेंशन सेंटर का अध्ययन करने के निर्देश 
संजीव कौशल ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि हरियाणा में बनने वाले पहले इंटरनेशनल कनवेंशन सेंटर को लेकर बारीकी से अध्ययन किया जाए। साथ ही उनकी व्यवहार्यता का भी मूल्यांकन किया जाए। ये कन्वेंशन सेंटर ग्रेटर फरीदाबाद के सेक्टर- 78 में  बनाया जाना है।

मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि जिन परियोजनाओं के क्रियान्वयन में केंद्र सरकार, रेलवे, डिफेंस या अन्य विभागों से एनओसी की आवश्यकता है, तो इसके लिए सभी प्रतिनिधियों के साथ जल्द एक बैठक कर एनओसी लेने की प्रक्रिया को पूर्ण किया जाए। NOC के कारण परियोजनाओं में अनावश्यक देरी को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।