Friday, June 21, 2024
Latest:
crimeEntertainmentFEATUREDHaryanaHealthLatestNationalNCRPoliticsTOP STORIES

सोनाली फोगाट का परिवार सीबीआई जांच की मांग के लिए सीएम मनोहरलाल से मिलने रवाना , जानिये कौन है पीए सुधीर सांगवान 

Spread the love

हिसार , 27 अगस्त ( धमीजा ) : हरियाणा की भाजपा नेता सोनाली फोगाट के परिवार के सदस्य शनिवार दोपहर बाद सीएम मनोहर लाल से मिलने चंडीगढ़ रवाना हो गए। वह सीएम से मिलकर सोनाली की मौत की सीबीआई जांच कराने की मांग करेंगे। अगर उनकी ये मांग नहीं मानी गई तो परिवार हरियाणा सीएम आवास के सामने धरना देगा।

सोनाली के जीजा अमन पूनिया ने कहा कि वे लोग हिसार से सोनाली की बेटी यशोधरा, भाई और भतीजे के साथ चंडीगढ़ जा रहे हैं। सीएम मनोहर लाल जहां भी होंगे, परिवार वहीं पर उनसे मिलकर सोनाली की मौत की सीबीआई जांच कराने और न्याय देने की मांग करेगा।

सोनाली फोगाट 23 अगस्त की सुबह गोवा के एक रिजॉर्ट में मृत मिली थी। उस समय सोनाली का पीए सुधीर सांगवान और सुखविंदर ही उसके साथ थे। सुधीर ने मंगलवार सुबह 8 बजे सोनाली के भाई को फोन करके मौत की सूचना दी और उसके बाद परिवार के सदस्यों के फोन उठाने बंद कर दिए।

परिवार का आरोप है कि सुधीर और सुखविंदर ने ही सोनाली का मर्डर किया है। आरोप है कि सुधीर की नजर सोनाली की प्रॉपर्टी पर थी। प्रॉपर्टी हड़पने के लिए उसने सोनाली की हत्या की है।

सोनाली का भाई रिंकू गोवा पुलिस को शिकायत देकर सुधीर पर सोनाली से दुष्कर्म और ब्लैकमेल करने के आरोप लगा चुका है। परिवार के अनुसार, सुधीर 3 साल से सोनाली से दुष्कर्म करता आ रहा था। वह वीडियो बनाकर सोनाली को ब्लैकमेल करता था। परिवार का आरोप है कि तीन साल पहले सोनाली के घर हुई चोरी में भी सुधीर की भूमिका थी।

सोनाली की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उसके शरीर पर चोट के निशान मिले हैं। इसी रिपोर्ट के आधार पर गोवा पुलिस सुधीर सांगवान और सुखविंदर के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज दोनों को गिरफ्तार कर चुकी है।

जानिए कौन है सोनाली फोगाट का पीए सुधीर और कैसे हुई मुलाक़ात 

हरियाणा की भाजपा नेता सोनाली फोगाट की हत्या के आरोप में गिरफ्तार उनका पीए सुधीर सांगवान सोनीपत के नूरनखेड़ा गांव का रहने वाला है। गोहाना एरिया का नूरनखेड़ा गांव BJP के पूर्व सांसद किशन सिंह सांगवान का गांव है।

सुधीर 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान पहली बार सोनाली के संपर्क में आया और धीरे-धीरे उसकी हर चीज पर कब्जा जमाता चला गया। सोनाली के फ्लैट-फार्म हाउस की चाबियों से लेकर उसके ATM कार्ड तक सुधीर ही रखता था। सोनाली किससे मिलेगी? उसके फार्म हाउस पर किसे एंट्री मिलेगी? ये भी सुधीर ही तय करता था।

सुधीर सांगवान की सोनाली से पहली मुलाकात 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले हुई। यह मुलाकात भिवानी जिले के गागडवास गांव के एक शख्स ने कराई जिसके कई फिल्मी कलाकारों से लिंक है। वह सोनाली का पहले से परिचित था, क्योंकि टिक-टॉक स्टार होने के नाते सोनाली एक्टिंग की दुनिया में एक्टिव थी।Sonali Phogat death case: who is Sudhir Sangwan and Sukhwinder wasi

चुनाव प्रचार में किया था मर्सीडीज गाड़ियों का इंतजाम 

सोनाली के परिवार से जुड़े लोगों के अनुसार, 2019 के हरियाणा विधानसभा चुनाव में बीजेपी की टिकट मिलने के बाद सोनाली के पास इलेक्शन लड़ने लायक फंड नहीं था। आलम ये था कि सोनाली के पास एक फॉर्च्यूनर गाड़ी होती थी, वह भी किसी और की थी। टिकट मिलते ही वो शख्स अपनी गाड़ी वापस ले गया। उसके बाद सुधीर एक मर्सीडीज गाड़ी लाया जो लगभग 10 दिन सोनाली के पास रही। सोनाली ने इस गाड़ी के साथ अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर फोटो भी अपलोड की।

चुनाव प्रचार के दौरान उस गाड़ी का एक्सीडेंट हो गया। तब गाड़ी में सुधीर और सोनाली ही थे। एक्सीडेंट के बाद सुधीर वह गाड़ी वापस ले गया और एक काले रंग की मर्सीडीज ले आया। सोनाली ने इस गाड़ी के साथ भी फोटो अपलोड की। इसके बाद सुधीर काले रंग की एंडेवयर एसयूवी लाया जो मतदान तक आदमपुर हलके में ही रही। इलेक्शन कैंपेन में इसी तरह की हेल्प करके सुधीर ने सोनाली से नजदीकियां बढ़ा लीं।