Friday, June 21, 2024
Latest:
HaryanaLatestNationalNCRPoliticsTOP STORIES

हरियाणा के मुख्यमंत्री आज मिले पीएम मोदी से , राजनैतिक अटकलों का बाज़ार गर्म

Spread the love

नई दिल्ली , 24 दिसंबर ( नवीन धमीजा ) : शनिवार को हरियाणा के सीएम मनोहर लाल अचानक पीएम मोदी से मिलने दिल्ली पहुंचे। माना जा रहा है कि मुलाकात के बीच कई अहम मुद्दों पर चर्चा हुई। राजनैतिक गलियारों में इस मुलाकात को राहुल गाँधी की भारत जोड़ो यात्रा के हरियाणा में प्रवेश करने के बाद अहम  माना जा रहा है। अचानक हुई इस मुलाक़ात के बाद से राजनैतिक अटकलों का बाजार गर्माने लगा है। हालांकि सीएम मनोहरलाल ने बताया कि मुलाक़ात में उन्होंने प्रदेश की कई योजनाओं के बारे में मोदी को जानकारी दी और उन्होंने कई योजनाओं पर ख़ुशी व्यक्त की।

मुलाकात के बाद सीएम मनोहर लाल ने कहा कि पीएम मोदी से हमने प्रदेश में चल रही योजनाओं के बारे में जानकारी दी । पीएम मोदी ने सभी योजनाओं के बारे में गंभीरता से सुना। मनोहरलाल ने बताया कि उन्होंने परिवार पहचान पत्र कार्यक्रम के बारे में पीएम मोदी को बताया। जनता को सभी सेवाएं परिवार पहचान पत्र के माध्यम से मिल रही है। जिस पर पीएम मोदी ने संतोष व्यक्त किया है।

सीएम ने राहुल की यात्रा को बताया फ्लॉप 

हरियाणा में कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा पर तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी खुद टूटी हुई है। राहुल गांधी देश को जोड़ने की बात कर रहे हैं। राहुल गांधी जितने बड़े नेता है उनकी यात्रा का वो प्रभाव नहीं दिख रहा है। चुनाव को सामने देखते हुए राहुल गांधी यह यात्रा निकाल रहे हैं।

26 दिसंबर को विधानसभा सत्र

हरियाणा में 26 दिसंबर से विधानसभा सत्र शुरू होने जा रहा है। साथ ही प्रदेश में जिला परिषद चुनाव चल रहे हैं। ऐसे में यह मुलाकात काफी अहम मानी जा रही है।

कई विभागों को किया मर्ज

इसके अलावा प्रदेश में कई विभागों को मर्ज किया गया है। जिस पर हरियाणा कैबिनेट की मुहर लग चुकी है। बताया जा रहा है कि कैबिनेट की बैठक के बाद विभागों के मर्ज होने की फाइनल रुपरेखा के बाद मंत्रियों के विभागों में बंटवारा भी होगा। जिस पर पूरे प्रदेश की नजरें टिकी हुई है।

ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि इन सभी मुद्दों पर गहन चर्चा हुई। वहीं, कैबिनेट मंत्री रणजीत सिंह चौटाला विधानसभा सत्र को लेकर पहले ही जानकारी दे चुके हैं कि प्रदेश में विधानसभा का सत्र 26 दिसंबर को शुरू होने जा रहा है। ऐसे में अहम मुद्दों को सदन में उठाया जाएगा, जरूरत पड़ने पर सत्र की अवधि को बढ़ाया जा सकता है।