Sunday, May 19, 2024
Latest:
BusinessHaryanaHealthLatestNationalNCRPoliticsTOP STORIES

फरीदाबाद सहित 12 जिले बढ़ प्रभाव घोषित ,सीएम मनोहरलाल ने बढ़ से हुए नुक्सान की जानकारी देते हुए कहा राहत के लिए अफसरों की लगाईं ड्यूटियां

Spread the love

चंडीगढ़ , 19 जुलाई ( धमीजा ) : हरियाणा सरकार ने 12 जिलों को बाढ़ग्रस्त घोषित किया है। सीएम मनोहर लाल ने यह ऐलान करते हुए कहा कि इन जिलों के लिए विशेष राहत पैकेज दिया जाएगा।अब तक बारिश से 399 सरकारी बड़ी योजनाओं को नुकसान पहुंचा है। इससे राज्य को 90 करोड़ का नुकसान हुआ है। इसके अलावा सड़कों को भी काफी नुकसान पहुंचा है। इस पर सरकार 230 करोड़ रुपए का खर्च करेगी। वहीं बिजली विभाग को भी काफी नुकसान हुआ है। इसके लिए सरकार को 22 करोड़ रुपए खर्च आएगा।

फरीदाबाद सहित ये जिले बाढ़ प्रभावित घोषित
प्रदेश के 12 जिले अंबाला, फतेहाबाद,फरीदाबाद, कुरुक्षेत्र, कैथल, करनाल,पानीपत, सोनीपत, सिरसा और यमुनानगर को बाढ़ प्रभावित घोषित किया गया है। इन जिलों के 1353 गांव और 5 MC क्षेत्रों को बाढ़ प्रभावित घोषित किया गया है। इन सब गांवों में एसडीआरएफ, एनडीआरएफ, सेना की सेवाएं सरकार ले रही है।

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल ने बताया कि अब की आई रिपोर्ट में सिंचाई और जल संसाधन विभाग द्वारा 399 सरकारी योजनाओं को नुकसान पहुंचा, जिन पर 90 करोड़ रुपए से अधिक का खर्च होगा। राज्य में बारिश और बाढ़ से 1142 किलोमीटर लंबी 996 सड़कों को नुकसान पहुंचा है, इनकी मरम्मत के लिए लिए 230 करोड रुपए का खर्च आएगा। इसके अलावा बारिश में बाढ़ से पूरे राज्य में 3369 खंभे क्षतिग्रस्त हुए हैं। 1470 ट्रांसफार्मर और अन्य बुनियादी ढांचों में भी पहुंचा नुकसान,जिनके लिए 22 करोड़ की सरकार को जरूरत होगी।

सड़क ,पुल , बिजली व अन्य कार्यों के लिए प्रशासनिक सचिवों की बढ़ाई शक्तियां

सीएम ने बताया कि सड़क, पुल, पेयजल योजना, लघु सिंचाई योजना और बिजली आपूर्ति को हुए नुकसान के लिए मरम्मत के लिए प्रशासनिक सचिवों को प्रशासनिक शक्तियां सौंपी गई। सड़क के मरम्मत के लिए 10 लाख रुपए तक के काम SE के स्तर पर कराया जा सकेगा, 1 करोड़ तक का काम इंजीनियर वर्क्स पोर्टल के माध्यम से स्पेशल टेंडर के जरिये कराए जाएंगे।

पशुपालकों के लिए राहत पैकेज 

सीएम मनोहर लाल ने पशुपालकों को भी राहत दी है। सीएम ने बताया कि भैंस, गाय, ऊंट, याक आदि की हानि पर 36500 रुपये, भेड़, बकरी,सुअर आदि के लिए 4000 रुपया, ऊंट, घोड़ा, बैल आदि के लिए 32000 रुपये बछड़ा, गधा, टट्टू खच्चर,बछड़ा के लिए 20000 रुपया, 100 रुपए प्रति पक्षी मुर्गी पालन के प्रभावित लोगों को सरकार देगी।

 3 जिलों का दौरा कर बताया लगभग 400 करोड़ से ज़्यादा का नुक्सान 
सीएम ने बताया कि कुल मिलाकर लगभग 400 करोड़ रुपए से अधिक का राज्य को नुकसान पहुंचा है। इससे पहले मुख्यमंत्री पिछले दो दिन से रोहतक, सोनीपत व नूंह के दौरे पर थे। इस दौरान उन्होंने कई बड़ी घोषणाएं भी की हैं।

सीएम इससे पहले बाढ़ और बिजली से मरने वालों के परिजनों के लिए 4-4 लाख रुपए राहत देने की घोषणा कर चुके हैं। हाल ही में उन्होंने अधिकारियों को बाढ़ प्रभावित जिलों की रिपोर्ट तत्काल बनाने के भी निर्देश दिए थे।

यमुनानगर , कुरुक्षेत्र , पंचकूला व अम्बाला सबसे अधिक प्रभावित 
इस बार 8 और 12 जुलाई के बीच पांच दिन में सामान्य तौर पर 28.4 MM बारिश होती है। इस बार 110 एमएम बारिश हुई। 400 प्रतिशत अधिक बारिश हुई है। यमुनानगर, कुरुक्षेत्र, पंचकूला और अंबाला में सबसे अधिक बारिश हुई। इन चारों जिलों में आठ से दस गुना अधिक बारिश हुई। हिमाचल प्रदेश से काफी पाानी आया। यमुना, मारकंडा, घग्गर, सरस्वती नदियों में बारिश का खूब पानी आया।

पशु अस्पतालों की तुरंत मरम्मत करवाएंगे डीसी 

सीएम मनोहर ने बताया कि प्रदेश में 17 सरकारी पशु औषधालयों और सरकारी पशु अस्पतालों के भवनों को नुकसान हुआ जिनकी मरम्मत के लिए एक करोड़ 24 लाख के बजट की आवश्यकता होगी। जिलों को बाढ़ एवं बचाव कार्यों के लिए अभी तक 4.5 करोड़ रुपए की राशि जारी की गई है। बाढ़ प्रभावित 12 जिलों के उपायुक्तों को अपने-अपने क्षेत्र में नुकसान के मुआवजा में तेजी लाने के लिए वित्तीय शक्तियां सौंपी गई हैं।