Thursday, June 20, 2024
Latest:
BusinesscrimeHaryanaLatestNationalNCRPoliticsTOP STORIES

वन विभाग की शिकायत पर पूर्व मंत्री महेंद्रप्रताप सिंह के पुत्र विवेक प्रताप के खिलाफ सूरजकुंड थाने में मामला दर्ज 

Spread the love

फरीदाबाद, 25 मार्च :  सुप्रीम कोर्ट से रोक के बावजूद अरावली नें अवैध रूप से फार्म हाउस का निर्माण करने के आरोप में पुलिस ने वन विभाग की शिकायत पर पूर्व कैबिनेट मंत्री महेंद्र प्रताप के बेटे सहित दो के खिलाफ केस दर्ज किया है। आरोप है सुप्रीम कोर्ट की रोक के बावजूद पूर्व मंत्री के बेटे विवेक प्रताप ने अपने साथी सुंदर के साथ मिलकर पेड़ों की कटाई कर अरावली को नुकसान पहुंचाया और अवैध रूप से फार्म हाउस तैयार कर दिया। फार्म हाउस में अवैध रूप से बोरवेल भी कर रखा है। वनअधिकारी की शिकायत पर थाना सूरजकुंड पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

वनराजिक अधिकारी ने पुलिस को दी शिकायत में कहा 10 मार्च को अरावली टॉस्क फोर्स टीम के वन दरोगा सोमदत्त, वन रक्षक विजय कुमार व चालक हरदेव सिंह के साथ सूरजकुंंड बीट की गश्त कर रहे थे। टीम ने देखा अनंगपुर चौक से डैथवेली के रास्ते पर पुराने बने फार्म हाउस पर अवैध कब्जा किया जा रहा है। यहां पेड़ों की अवैध रूप से कटाई करा कर जमीन को साफ किया जा रहा है। गिनती करने पर पाया आरोपियों ने कई पेड़ कटवाकर आग लगा दी। फार्म हाउस में अवैध रूप से मिट्टी डलवाकर जेसीबी से जमीन को समतल किया जा रहा था। फार्म के बाहर कई ट्रैक्टर-ट्रॉली भी खड़े मिले। आरोपियों ने रास्ता बनाने के लिए अवैध रूप से खनन करवा कर गेट के साथ से पत्थरों को हटाकार सीधा रास्ता बना लिया और अरावली की जमीन पर अतिक्रमण भी किया है। फार्म हाउस की जांच में पाया आरोपियों ने अवैध रूप से बोरवेल कर रखा है और भूजल का दोहन किया जा रहा है। वन विभाग की टीम ने फार्म में हो रही गतिविधियों की फोटो और वीडियो करने के बाद पुलिस को मामले की सूचना दी।
वन विभाग ने अपनी जांच में पाया कि फार्म हाउस सुंदर और विवेक प्रताप का है। विवेक पूर्व कैबिनेट मंत्री महेंद्र प्रताप के बेटे हैं। थाना सूरजकुंड प्रभारी बलराज सिंह के अनुसार वन विभाग की तरफ से मिली शिकायत के आधार पर केस दर्ज कर लिया गया है। मामले की जांच की जा रही है। वन विभाग से भी जमीन संबंधी जानकारी जुटाई जा रही है।

वहीँ इस मामले में विवेक प्रताप सिंह ने लगे तमाम आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि उन्होंने ना कोई अतिक्रमण किया है और न ही किसी प्रकार का निर्माण किया है। उन्होंने फोन कर कहा कि उक्त ज़मीन पर पुराने निर्माण हैं , उन्होंने एफआईआर में अपने पर लगे सभी आरोपों को गलत करार दिया है।