Thursday, June 20, 2024
Latest:
crimeHaryanaLatestNationalNCRPoliticsSportsTOP STORIES

पहलवानों व बृजभूषण के बीच रहे विवाद में नया मोड़ , नाबालिग पहलवान ने यौन शोषण के आरोप वापिस लिए

Spread the love

नई दिल्ली , 7 जून ( धमीजा ) : नाबालिग पहलवान ने WFI के पूर्व अध्यक्ष बृजभूषण के खिलाफ लगाए यौन शोषण के आरोप वापस ले लिए हैं। उसने कहा- बृजभूषण ने मेरे साथ भेदभाव किया। बृजभूषण पर अब सिर्फ छेड़छाड़ के आरोप हैं। नाबालिग पहलवान के पिता ने इसकी पुष्टि की।

उन्होंने कहा- हमने 5 जून को कोर्ट में बयान बदल दिए थे। मै ये नहीं कहना चाहता कि किसने धमकी दी है। मेरा भी परिवार है। अगर मेरे को कुछ हो गया तो मेरा परिवार बर्बाद हो जाएगा। मुझे डर लग रहा है।

हमारे अंदर भेदभाव का गुस्सा था। फेडरेशन के अंदर अपील की लेकिन उन्होंने भी नहीं सुनी। हमने जो एप्लिकेशन दी, उसमें कुछ सच और कुछ गलत था। मैंने सही और गलत को कोर्ट में जाकर क्लियर कर दिया है। मेरा पूरा परिवार डिप्रेशन में है।

6 घंटे तक अनुराग ठाकुर से चली रेस्टलेर्स की मीटिंग  
इससे पहले रेसलर बजरंग पूनिया और साक्षी मलिक की बुधवार को दिल्ली में खेल मंत्री अनुराग ठाकुर के साथ 6 घंटे की मीटिंग हुई। मीटिंग के बाद रेसलर साक्षी मलिक ने कहा- सरकार ने जांच पूरी करने के लिए 15 जून तक का टाइम मांगा है। तब तक उन्हें किसी तरह के प्रदर्शन न करने की अपील की है। हालांकि पहलवानों का आंदोलन अभी खत्म नहीं हुआ है।

बजरंग पूनिया ने कहा- आज की मीटिंग के बारे में खाप प्रतिनिधियों से चर्चा करेंगे। सबकी सहमति से ही किसी निर्णय पर पहुंचा जाएगा। बृजभूषण की गिरफ्तारी के सवाल पर भी खेल मंत्री ने जांच पूरी होने और उसके आधार पर कार्रवाई की बात कही।

खेल मंत्री बोले- सकारात्मक बैठक हुई खिलाड़ियों से 
खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा- अच्छे माहौल में संवेदनशील मुद्दे पर सकारात्मक बातचीत हुई। मीटिंग में आरोपों की जांच कर 15 जून तक चार्जशीट दायर करने, WFI का चुनाव 30 जून तक करने, WFI में महिला अध्यक्ष की अगुआई में इंटरनल कंप्लेंट कमेटी बनाने की बात हुई। इसके अलावा WFI के चुनाव होने तक IOA की एडहॉक कमेटी पर 2 कोच का नाम प्रस्तावित करने और फेडरेशन के चुनाव में खिलाड़ियों से रायशुमारी पर सहमति बनी।

निवर्तमान अध्यक्ष बृजभूषण सिंह व उनसे संबंधित लोग चुनकर न आएं, ये रेसलर्स की मांग की थी। महिला खिलाड़ियों को जरूरत के अनुसार सिक्योरिटी मिले। जिन खिलाड़ियों, अखाड़ों या कोचों के खिलाफ केस हैं, उन्हें वापस लेने की मांग की गई।

अनुराग ठाकुर ने मंगलवार को कहा था कि सरकार पहलवानों से बातचीत के लिए तैयार है। हमने उन्हें दोबारा बुलाया है। इससे पहले 24 जनवरी को खेल मंत्री और पहलवानों के बीच बातचीत हुई थी और पहलवानों ने आंदोलन खत्म कर दिया था।

विनेश फौगाट के गांव में हुई  महापंचायत
हरियाणा में चरखीदादरी जिले में विनेश फोगाट के गांव बलाली में महापंचायत हुई। जिसमें द्रोणाचार्य अवार्डी महावीर फोगाट ने भी हिस्सा लिया। जिसमें बृजभूषण की गिरफ्तारी की मांग के साथ भारतीय कुश्ती संघ से नेताओं को बाहर करने और खिलाड़ियों को पदाधिकारी बनाने की मांग की गई। इसमें पहलवानों को भी अपना रुख स्पष्ट करने को कहा गया।

हाल ही में 4 जून को रेसलर्स ने गृह मंत्री अमित शाह से भी मुलाकात की थी। इसके बाद बजरंग, साक्षी मलिक और विनेश फोगाट ने रेलवे में अपनी ड्यूटी जॉइन कर ली थी। इससे खाप और किसान नेता नाराज थे।

हरियाणा ,पंजाब , यूपी व राजस्थान की खापों के साथ जोड़ने की तैयारी
पहलवानों की कोशिश है कि न केवल हरियाणा-पंजाब, उत्तर प्रदेश और राजस्थान की खापें एक साथ एक मंच पर जुटें, बल्कि किसान संगठन भी एकजुटता दिखाएं। इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश और हरियाणा के बाद अब राजस्थान में भी अगले सप्ताह महापंचायत की जा रही है।

पहलवान सरकार के करीबियों से भी उनका रुख जानने में जुटे हैं। पहलवानों की केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान से लेकर हरियाणा भाजपा के भी एक नेता के साथ बात हुई है, लेकिन बताया गया है कि अभी कार्रवाई पहलवानों के मन मुताबिक नहीं हो सकी है। दिल्ली पुलिस 27 जून को अंतरिम रिपोर्ट कोर्ट में दाखिल करेगी।

कुश्ती संघ के पूर्व अध्यक्ष बृजभूषण सिंह की गिरफ्तारी की मांग कर रहे पहलवान बजरंग पूनिया का कहना है कि गृहमंत्री के साथ मीटिंग में कोई डील नहीं हुई है। आंदोलन वापस लेने की बात अफवाह है, ये जारी रहेगा। सरकार के लोगों ने कहा था कि इस मीटिंग के बारे में बाहर बात नहीं करनी है।

बृजभूषण के खिलाफ दर्ज दो अलग-अलग FIR में पहलवानों ने कई संगीन आरोप लगाए हैं। इन FIR के अनुसार, बृजभूषण ने कथित रूप से कई बार महिला पहलवानों से छेड़छाड़ की। गलत तरीके से उन्हें छुआ। यहां तक कि सांस चेक करने के बहाने उनकी टी-शर्ट भी उतार दी। कमरे में बुलाकर बैड पर लेटने को कहा। जबरदस्ती करने की कोशिश की तो भाग कर जान बचाई।